एडवेंचर प्रेमियों के लिए अब असम भी नया ठिकाना बनने वाला है। एडवेंचर शौकीनों के लिए पैराग्लाइडिंग एक स्पोर्टस से कम नहीं है। इसका मजा लेने के लिए लोग दूर-दूर तक जाते हैं। पर बहुत कम लोगों को पता होगा कि भारत का असम खुद में एक पैराग्लाइडिंग केंद्र है।

असम पहली बार बोडोलैंड में 10 नवंबर से 15 नवंबर तक पहली पैराग्लाइडिंग चैंपियनशिप की मेजबानी करेगा। इस टूर्नामेंट का आयोजन वाइल्ड लाइफ सेंचुरी में किया जा रहा है। इस जगह का चयन भी बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल (बीटीसी) पर्यटन विभाग द्वारा किया गया है।


बीटीसी पर्यटन विभाग ने 2013 में पहली बार असम के एक प्रसिद्ध त्योहार बाओकुंगरी (Bhaokungri) में पैराग्लाइडिंग की शुरुआत की थी। हजारों लोगों ने बाओकुंगरी की चोटी पर चढ़ाई कर इसका समर्थन किया था। असम में पहली बार जब पैराग्लाइडिंग शुरू की गई थी, तो युवाओं को इसकी ट्रेनिंग देने के लिए सिक्किम से पायलटों को बुलाया गया था जिससे इन युवाओं को रोजगार के नए अवसर मिल सकें। पैराग्लाइडिंग की शुरुआत सही तरीके से सही लक्ष्य को ध्यान में रखकर ही गई थी।


बीटीसी पर्यटन विभाग इस साल असम में गर्व के साथ अपनी पहली पैराग्लाइडिंग चैम्पियनशिप की मेजबानी करेगा। इसके तहत थाईलैंड, मलेशिया, दक्षिण कोरिया, स्विट्जरलैंड जैसे लगभग 15 देशों के 70 पायलटों को आमंत्रित किया जाएगा। इसके अलावा पुणे, सिक्किम, मनाली और अरुणाचल प्रदेश के पायलेट्स को भी निमंत्रण भेजा जाएगा।


इसे और बढ़ावा देने के लिए पर्यटन विभाग की पैराग्लाइडिंग ट्रेनिंग सेंटर खोलने की भी योजना है। इस सेंटर को कोकराझार के चक्रशिला वाइल्ड लाइफ सेंचुरी के पास खोला जाएगा।

क्या आप भी असम की पहली पैराग्लाइडिंग चैंपियनशिप देखने के लिए उत्साहित हैं? तो बता दें कि इसकी शुरुआत 11 नवंबर को सुबह 10 बजे उद्घाटन समारोह के साथ होगी। इसके बाद अगले दो दिनों तक रजिस्ट्रेशन, ट्रायल और प्रतियोगिता के लिए अपना नाम दे सकते हैं। 12 और 13 नवंबर को मुख्य पैराग्लाइडिंग प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी, जहां राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के पायलट इसमें हिस्सा लेंगे।


पैराग्लाइडिंग की उड़ान असम के ओंटाई-गुफुर (Ontai-Gufur), चक्रशिला वाइल्ड लाइफ सेंचुरी और दमादुरपुर लैंड से की जाएगी। इसकी आखिरी उड़ान का लुत्फ आप 14 नवंबर को ले सकते हैं। विजेता को पुरस्कार देने के साथ ही शाम 5 बजे कार्यक्रम का समापन हो जाएगा।