Manipur की रहने वाली विजया ने दुनिया में अपने काम से कायम की मिसाल

Daily news network Posted: 2018-03-14 17:52:07 IST Updated: 2018-09-15 05:29:58 IST
Manipur  की रहने वाली विजया ने दुनिया में अपने काम से कायम की मिसाल
  • विजया र्इस्टवुड एक क्रियाशील बिजनेसमैन हैं आैर हमेशा कुछ नया आैर अनोखा करने के प्रयास में रहती हैं।

इंफाल।

विजया र्इस्टवुड एक क्रियाशील बिजनेसमैन हैं आैर हमेशा कुछ नया आैर अनोखा करने  के प्रयास करती रहती हैं। विजया का जन्म मणिपुरी परिवार में हुआ था। फैशन आैर लाइफ स्टाइल में अनुभव लेने के बाद विजया ने क्रिकलाइफ, लाइफस्टाइल आैर भारत के प्रमुख लाइफस्टाइल प्रबंधन और कन्सीर्ज सेवाआें की स्थापना की। बता दें कि विजया जब बहुत छोटी थी तब वे अपनी स्कूली शिक्षा के लिए दिल्ली आर्इ। स्कूल की पढ़ार्इ पूरी करने के बाद उन्होंने देश-विदेश में विभिन्न कंपनियों के लिए काम किया।  विदेश में अपने अंदर के उत्साह आैर रूचि को खोजने के बाद अब वे अपने देश भारत वापस आ गर्इ ।


  

 रहा प्रभावशाली करियर -

 विजया एक सफल आैर इनोवेटिव बिजनेस वुमन हैं जो हमेशा कुछ नया करने की तलाश में रहती हैं। तो आइए जानते है इनके करियर के बारे में कुछ और रोचक बातें-


 विजया न्यू काॅल इंडिया की डायरेक्टर हैं होने के साथ ही फोंट्र प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की केपीआे आैर डायरेक्टर है। इसके साथ वो एक टेक्नाॅलाॅजी स्टार्टअप को भी चला रही है। वह हमेशा से नार्थर्इस्ट में उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए उत्सुक रही है आैर वहां पर एक आर्गेनिक फूड कंपनी की स्थापना करना चाहती हैं। ताकि वे वहां के सर्वोत्तम उत्पादों को बढ़ावा दे सकें। नार्थर्इस्ट के उद्यमियों का सर्मथन आैर प्रोत्साहित करने के लिए विजया ने एक रन रेजः रिस्पांड नाम की चैरिटी  की स्थापना की है। काम के जरूरत को देखते हुए विजया यूके आैर भारत में रहने की योजना बना रही हैं। विजया ने अपने काम की शुरूआत यूके के लेवी, गैसोलीन, इंडीटेक और स्टूडियो-21 जैसी कंपनियों के लिए काम करना शुरू कर था। मर्चेंडाइजिंग में उन्होंने अपनी मुख्य भूमिका निभार्इ इस क्षेत्र में उन्हें बहुत अनुभव दिया। इसके बाद विजया इस अपना खुद का बिजनेस करने के लिए भारत आ गर्इं। भारत लौट कर उन्होंने  अपनी खुद की कंपनी शुरू कर दी।



करियर की शुरूआत-

 विजया के उद्यमिता की लकीर तब चमकी जब ट्रेनिंग की आैर उनकी ट्रेनिंग ही भारत आैर यूके के कंपनियों के बीच की कड़ी बनी क्योंकि हर कंपनी अच्छी तरह प्रशिक्षित आैर प्रोफोशनल बीपीआे को हायर करना चाहती थी। नेटवर्किंग आैर मार्केटिंग स्किल ने विजया को उन कंपनियों के संस्थापकों आैर सीर्इआे के बीच लोकप्रिय बना दिया जिनके साथ वे काम कर रही थी। वे भारत आैर यूके में हमेशा से अवसरों की तलाश में रहीं।

 

 


विजया के जीवन में एक समय एेसा भी आया जब उन्होंने रियल इस्टेट में भी अपनी किस्मत आजमार्इ। इसमें उन्होंने पुरानी डिजाइनों का नवीनीकरण किया आैर उन्हें बेचा या किराए पर देने लगी। भारत आैर यूके की मार्केट में अपनी पैठ बनाने के विजया को ज्यादा समय नहीं लगा। वह अपनी परामर्श कौशल से कार्पोरेट आैर अन्य सेक्टर में सबकी ममद करने में महिर हो गर्इं। इन खूबियों ने विजया को दुनिया में ब्रांड बना दिया। उन्होंने कम उम्र में दुनिया के सामने एक सफलता की एक मिसाल कायम की।

 



इन चुनौतियों का किया सामना-

 विजया को यहां तक पहुंचने के लिए कर्इ चुनौतियों का सामना करना पड़ा। विजया बताती है कि सबसे बड़ी चुनौती कर्मचारियों की नियुक्ति है। क्योंकि कर्मचारियों की गुणवत्ता अपके काम की गुणवत्ता को परिभाषित करती है। अापके ज्ञान की ताकत अौर टीम का अनुभव ही बिजनेस में काम आता है। विजया का कहना है कि क्रिब लाइफ का लक्ष्य अपने ग्राहकोंं की जरूरतों को ध्यान रखना आैर उसे समझना हैं। हमें पहले ग्राहकों की इस प्रकृति को जानना होगा। कर्मचारियों को भी ये चीज पता होना चाहिए। एेसे कर्मचारी हमेशा चुनौतियों का सामना करने की प्रेरणा देते हैं।



 महिलाआें के लिए बदला है पूर्वोत्तर का माहौल

क्षेत्र में स्वरोजगार और उद्यमशीलता काे बढ़ावा देने के लिए केंद्र ने कर्इ योजनाएं निकाली हैं। लेकिन अफसोस की बात तो यह है कि महिलाएं इस क्षेत्र में जागरूक नहीं है। जागरूकता की कमी के चलते महिलाएं अच्छे अवसर पाने में पीछे छूट जाती हैंं। विजया का कहना है कि पूर्वोत्तर वास्तव में विकसित हुआ है अौर मुझे इस बात पर गर्व है। आज के समय में महिलाएं भी पुरूषों के साथ कदम से कदम मिला कर आगे बढ़ रही है जाे पहले कभी यहां देखने को नहीं मिला। सबसे अच्छी बात तो यह है कि अब हम लोग अपनी प्रतिभा का इस्तेमाल कर सकते हैंं आैर एक प्रोफेशनल विजनेसमैन बनकर उभर सकते हैं। आज पूर्वोत्तर की महिलाएं पहले से बहुत आगे हैं। आज के परिदृश्य में काम के महौल में बदलाव हुआ है जो हम देख सकते हैं। पूर्वोत्तर भी दूसरे राज्यों की तरह अपनी महिलाआें को उद्यमिताआें में आगे का रास्ता तलाशने में उनकी मदद कर रहा हैं।