इस काले चावल की कीमत ने उड़ा दिए सबके होश, इतनी बीमारियों में असरदार

Daily news network Posted: 2019-08-18 11:08:11 IST Updated: 2019-08-18 11:20:18 IST
इस काले चावल की कीमत ने उड़ा दिए सबके होश, इतनी बीमारियों में असरदार
  • अगर कुछ जगहों को छोड़ दें तो भारत में लगभग सभी जगहों पर चावल सर्वाधिक खाया जाता है।

इंफाल

अगर कुछ जगहों को छोड़ दें तो भारत में लगभग सभी जगहों पर चावल सर्वाधिक खाया जाता है। यहां करीब 20 रुपए से शुरू होकर 500 रुपए प्रति किलोग्राम तक के चावल मिलते हैं। इस कड़ी में आज हम बात कर रहे हैं ऐसे चावल की जिसे काला सोना भी कहा जाता है। जी हां, दावा किया जा रहा है कि यह काला सोना लोगों को तमाम तरह की बीमारियों से बचाएगा जिनमें डायबिटीज, कॉलेस्ट्रोल, बीपी और कैंसर जैसे रोग शामिल हैं।

 

 

 


हालांकि मणिपुर में पैदा होने वाले इस विशेष काले चावल के दाम सुनकर कइयों के होश उड़ जाएंगे। 1800 रुपए प्रति किलो के आसपास के दाम पर बिकने वाले इस विशेष चाक हाओ (सेंटेड काला चावल) में पोषक तत्वों की मात्रा अन्य चावलों से ज्यादा है। इसके गुणों को देखकर 1800 रुपए किलो का दाम भी सस्ता लगने लगता है।

 

 


राज्य के किसानों को आर्थिक लाभ पहुंचाने और इसमें पाए जाने वाले औषधीय गुणों से अधिकांश लोगों को लाभ प्रदान कराने के मकसद से मणिपुर सरकार का कृषि विभाग इस चावल की ब्रांडिंग में जुटा हुआ है। प्रदेश सरकार का कहना है कि चाक हाओ मणिपुर के संसाधन की आर्थिक कुंजी बन सकता है। सरकार इस चावल की जोर-शोर से ब्रांडिंग भी कर रही है। पूर्वोत्तर विकास सम्मेलन में राज्य सरकार ने इसके गुण और व्यवसायिक फायदों को उद्यमियों के सामने गिनाया। इसी सम्मेलन में सरकार ने इस चावल से होने वाले आर्थिक लाभ के फायदों को गिनाते हुए प्राइवेट कंपनियों से भी आग्रह किया है कि वे पीपीपी मॉडल के जरिए प्रदेश में आकर इसका उत्पादन करें।

 

 

 

आपको बता दें कि तमाम शोध के बाद यह प्रमाणित हुआ है कि इस काले चावल को खाने से गंभीर ऐथिरोस्क्लेरोसिस बीमारी, उच्च रक्तचाप, तनाव, उच्च कोलेस्ट्रॉल, आर्थराइटिस, कैंसर और एलर्जी सरीखी बीमारियों से पीड़ितों को बचाव एवं राहत प्रदान करता है। काला चावल मोटापा कम करने के लिए बेहद लाभदायक हैं। दिल को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए भी ये सहायक है। इसमें मौजूद फाइटोकेमिकल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करते हैं। साथ ही यह हृदय की धमनियों में अर्थो स्क्लेरोसिस प्लेक फॉर्मेशन की संभावना कम करता है जिससे हार्ट अटैक और स्ट्रोक की संभावना भी कम होती है।

 

 

काले चावल में एंथोसायनिन नामक एंटी ऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में मौजूद होता है जो कार्डियोवेस्कुलर और कैंसर जैसी बीमारियों से बचाने में सहायक है। यह प्रतिरोधक क्षमता में भी इजाफा करता है। इनमें मौजूद विशेष एंटी ऑक्सीडेंट तत्व त्वचा व आंखों के लिए फायदेमंद होते हैं। इसमें मौजूद फाइबर पाचन तंत्र को दुरुस्त करने के साथ आंत की बीमारी को भी दूर करते हैं। अगर गुणवत्ता की बात करें तो इसके 100 ग्राम में कार्बोहाइड्रेट-34, प्रोटीन-8.7, आयरन-3.5, फाइबर-4.9 और सर्वाधिक एंटी ऑक्सिडेंट मौजूद रहता है।