अब नई कार या टू-व्हीलर लेने से पहले करना होगा ये काम

Daily news network Posted: 2018-04-05 12:51:37 IST Updated: 2018-04-05 13:19:32 IST
अब नई कार या टू-व्हीलर लेने से पहले करना होगा ये काम
  • वित्त मंत्रालय के आदेश पर इंश्योरेंस रेगुलेटरी डेवलपमेंट ऑथोरिटी नए इंश्योरेंस नियम लाने की तैयारी कर रही है।

नई दिल्ली।

वित्त मंत्रालय के आदेश पर इंश्योरेंस रेगुलेटरी डेवलपमेंट ऑथोरिटी नए इंश्योरेंस नियम लाने की तैयारी कर रही है। इसके तहत नई कार खरीदते समय तीन और दोपहिया वाहन लेते समय पांच समय का इंश्योरेंस करना जरूरी होगा। सूत्रों के मुताबिक इसके लिए डेढ़ दो माह में ड्राफ्ट पॉलिसी तैयार कर ली जाएगी। इस पर रायशुमारी के बाद मसौदे पर फाइनल मुहर लगेगी। इसके पीछे सरकार की मंशा मुख्य रूप से थर्ड पार्टी इश्योरेंस को बढ़ावा देने की है। वाहनों का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस नहीं होने से उस वाहन से हादसे का शिकार होने वाले को इंश्योरेंस क्लेम नहीं मिल पाता है।


 

इंश्योरेंस नियम में बदलाव की प्रक्रिया से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि प्रस्तावित नियम से इंश्योरेंस कंपनियांए ग्राहक और डीलर सभी को फायदा होगा। इसके तहत बीमा कंपनी को तीन या पांच साल का इंश्योरेंस होने से एक साथ मोटी रकम मिलेगी। डीलरों को  इंश्यारेंस करने के बदले अधिक कमीशन मिलेगा। वहीं आम जनता को हर साल इंश्योरेंस से निजात मिलेगी।

 



बता दें कि देश में करीब 18 करोड़ रजिस्टर्ड वाहनों में महज 6 से 7 करोड़ वाहन ही इंश्योर्ड हैं। एक इंश्योरेंस कंपनी के एक अधिकारी ने बताया कि 50 प्रतिशत से ज्यादा कार मालिक इंश्योरेंस को सुरक्षा के तौर पर नहीं, खर्च के तौर पर देखते हैं। उन्हें लगता है कि पिछले साल रिन्यु कराने में उन्होंने 6000-7000  रुपए खर्च किए, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।


 


कारों का थर्ड पार्टी प्रीमियम 10% तक सस्ता 

1000 सीसी: 1 अप्रैल से 1850 रुपये प्रीमियम। पहले 2055 रुपए था। 

1000 सीसी से अधिक: प्रीमियम 3132 से घटाकर 2863 रुपए किया। 

1500 सीसी से अधिक: अब 7890 रुपये, पहले 8630 रुपए प्रीमियम था।