पूर्व प्रेमी के ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर महिला ने की आत्महत्या, गंगटोक में हुआ था खुलासा

Daily news network Posted: 2018-03-14 11:02:13 IST Updated: 2018-03-14 11:19:41 IST
पूर्व प्रेमी के ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर महिला ने की आत्महत्या, गंगटोक में हुआ था खुलासा
  • आपत्तिजनक फोटों खींचकर ब्लैकमेल करने वाले कथित प्रेमी से अजीज इशाकचक की मीनू ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

नर्इ दिल्ली।

आपत्तिजनक फोटो खींचकर ब्लैकमेल करने वाले कथित प्रेमी से परेशान इशाकचक की मीनू ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या करने से पहले महिला और युवक के बीच सोशल मीडिया पर चैटिंग हुई थी। मीनू ने अपने आखिरी मैसेज में लिखा था तुम ही मेरी मौत के जिम्मेदार होंगे। बता दें कि मृतका के पति राजीव रंजन प्रॉपर्टी डीलर हैं। बांका जिले के केवाचक धौरैय्या में मीनू का मायका है। महिला की शादी 2005 में हुर्इ थी। महिला को दो बच्चे थे। पति ने हत्या के लिए उकसाने का आरोप विश्वविद्यालय चौकी इलाके के साहेबगंज निवासी शशि भूषण यादव पर लगाया है।


 


पूर्वोत्तर कनेक्शन -


मृतका के पति ने बताया कि उसकी पत्नी आैर शशि के दोस्ती का बात की जानकारी उन्हें आठ जनवरी को हुई। जब वे पत्नी, बच्चे और साली मिन्नी को लेकर गंगटोक घूमने गए थे। पत्नी बाथरूम गई थी तो उसके मोबाइल पर शशि का मैसेज आया। इस मैसेज का पति ने स्क्रीन शॉट रख लिया था। पति ने मीनू से शशि के बारे में पूछा। दोनों में विवाद हो गया। पति ने स्क्रीन शॉट अपने ससुर को भेज दिया। मीनू मायके वालों की नजरों में भी गिर गई। इसके बाद मीनू डिप्रेशन में रहने लगी। पिता व अन्य परिजन मीनू से बात तक नहीं करते थे। 



फेसबुकिया दोस्त की ब्लैकमेलिंग


फेसबुक के जरिए शशि से मीनू की दोस्ती हुई थी। इसके बाद नजदीकियां बढ़ने लगी। शशि ने दोस्ती की आड़ में मीनू की कई अंतरंग तस्वीरें भी खींची। मीनू को जब लगने लगा कि शशि के कारण उसके दाम्पत्य जीवन में दरार आ गया है तो उसने उससे संपर्क तोड़ दिया। उसके मोबाइल नंबर को भी ब्लॉक कर दिया, लेकिन शशि अलग-अलग नंबरों से मीनू को फोन कर ब्लैकमेल करता था। उसकी फोटो को गलत इस्तेमाल करने की धमकी देता था।


 

 

पति की अनुपस्थिति में मीनू ने की आत्महत्या

 महिला के पति राजीव रंजन ने बताया कि सुबह नौ बजे वह घर से किसी को पेमेंट देने के लिए निकला था। उस समय मीनू ठीक-ठाक थी। उसने खाना भी बनाया था। दोपहर करीब साढ़े बारह बजे के आसपास घर लौटे तो एक बेटा बाहर में खेल रहा था। बेडरूम का दरवाजा भीतर से बंद था। दरवाजा नहीं खुला तो परिजनों को बुला लिया। बेलन से कमरे की खिड़की का शीशा तोड़ा तो भीतर पंखे से मीनू लटकी हुई थी। मौत से पहले शशि और मीनू में वहाट्सएप पर करीब आधे घंटे तक चेटिंग हुई।