दुनिया के सबसे ताकवर राष्ट्रपति के पास है सबसे खतनाक प्लेन, जानें इसकी खासियत

Trending Now

अमेरिकी राष्ट्रपति भारत पहुंच गए हैं। कल अहमदाबाद में ट्रंप का भव्य स्वागत हुआ।

नई दिल्ली

अमेरिकी राष्ट्रपति भारत पहुंच गए हैं। कल अहमदाबाद में ट्रंप का भव्य स्वागत हुआ। उनके आने से पहले उनकी खास लिमोजीन कार द बीस्ट और 'बख्तरबंद' हेलिकॉप्टर मरीन वन भारत आ चुका था। जिस तरह उनकी कार और हेलिकॉप्टर खास है, उसी तरह उनका 'विमान एयरफोर्स वन' भी बेहद खास है जिससे वह ट्रैवल करते हैं।

ये विमान 2 खास तरीके से बनाए गए बोइंग 747-200B सीरीज के विमानों में से एक है। यह विमान चंद मिनटों के नोटिस पर उड़ने के लिए हमेशा तैयार रहता है। विमान में होने के बाद भी अमेरिकी राष्ट्रपति किसी से भी कनेक्ट रह सकते हैं और अमेरिका पर हमला होने की स्थिति में इस विमान को मोबाइल कमांड सेंटर की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं।

ट्रंप का एयरफोर्स वन विमान कभी अकेला नहीं उड़ता। कुछ कारगो विमान हमेशा इसके आगे-आगे चलते हैं, जिनके जरिए रिमोट लोकेशन में भी ट्रंप को किसी चीज की कमी महसूस ना हो। देखा जाए तो ये कारगो विमान अमेरिकी राष्ट्रपति के एयरफोर्स वन को सुरक्षा देने का भी काम करते हैं। ट्रंप का विमान कितना खास है, इसका अंदाजा इस बात से भी लगता है कि अगर किसी स्थिति में उसका तेल खत्म होता है तो उसे तेल भराने के लिए कहीं लैंड करने की जरूरत नहीं होती है। अगर स्थितियां प्रतिकूल लगें या ट्रंप रुकना न चाहें तो उनके विमान में, हवा में उड़ते हुए ही तेल भरा जा सकता है।

इस विमान में एक मेडिकल सुईट भी होता है, जो एक ऑपरेशन रूम थिएटर की तरह भी काम कर सकता है। एक डॉक्टर हर वक्त ट्रंप के साथ विमान में ही रहता है, ताकि किसी भी परिस्थिति से आसानी से निपटा जा सके। डॉनल्ड ट्रंप के इस खास विमान एयरफोर्स वन में 4000 वर्ग फुट की जगह होती है और तीन लेवल यानी फ्लोर होते हैं। इसमें ट्रंप के लिए एक खास सुईट होता है। एक बड़ा ऑफिस होता है और एक कॉन्फ्रेंस रूम भी होता है। इसके अलावा खाना बनाने की दो फैसिलिटी होती हैं जो एक बार में 100 लोगों का खाना बना सकती हैं।

इसमें उन लोगों के भी रहने की व्यवस्था होती है, जो ट्रंप के साथ ट्रैवल कर रहे होते हैं, जैसे सीनियर एडवाइजर, सीक्रेट सर्विस के ऑफिसर, मीडिया के लोग और अन्य मेहमान। ये विमान एक बार में 102 लोगों के ले जा सकता है, जिसमें 26 केबिन क्रू भी शामिल हैं। एयरफोर्स वन के रखरखाव और संचालन की जिम्मेदारी प्रेसिडेंशियल एयरलिफ्ट ग्रुप की होती है। यह ग्रुप वाइट हाउस मिलिटरी ऑफिस का ही हिस्सा होता है। इस ग्रुप को 1944 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति फ्रेंकलिन रूजवेल्ट के आदेश के बाद बनाया गया था।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360

Top News

Tending Now