ये है 'बिहार का खजुराहो', शिल्प कला देखकर हो जाएंगे हैरान

Daily news network Posted: 2018-07-10 18:40:37 IST Updated: 2018-07-10 21:57:31 IST
  • आदिकाल से मंदिरों के निर्माण की परंपरा भारतीय समाज में विद्यमान रही है। भारत के कई मंदिरों में वहां की स्थानीय शैली का स्पष्ट प्रभाव देखा जा सकता है।

आदिकाल से मंदिरों के निर्माण की परंपरा भारतीय समाज में विद्यमान रही है। भारत के कई मंदिरों में वहां की स्थानीय शैली का स्पष्ट प्रभाव देखा जा सकता है। देश में ऐसे कम ही मंदिर हैं जो कई तरह के शैलियों से बने है। बिहार में ऐसा ही एक मंदिर है जिसमें उत्तर की नागर शैली, दक्षिण की द्रविड़ शैली के साथ बेसर शैली और स्थानीय शिल्प कौशल का भी प्रयोग किया गया है।

 

 शिल्प कौशल का बेहतरीन उदाहरण है बिहार के हाजीपुर (पटना) का नेपाली मंदिर जिसे ‘बिहार प्रदेश का खजुराहो’ भी कहा जाता है। यह देवालय पटना-मुजफ्फरपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर गांधी सेतु पुल पार कर जडुआ मोड़ से छह किलोमीटर की दूरी पर है। नेपाली मंदिर के एक ओर नारायणी गंडक के किनारे का नजारा मनभावन लगता है, वही दूसरी तरफ महाश्मशान में चिता हमेशा जलती रहती है।


 पूरी तरह से लकड़ी का बना यह मंदिर अन्य मंदिरों से भिन्न है। कहा जाता है कि हाजीपुर के इस नेपाली मंदिर का निर्माण हरि सिंह के दादा राजा रंजीत सिंह द्वारा करवाया गया था। इसका निर्माण लगभग 550 वर्ष पूर्व इस मंदिर का निर्माण कराया गया था। स्थानीय लोगों का मानना है कि राजा रंजीत सिंह ने इस मंदिर का निर्माण प्रजा में काम विद्या की शिक्षा के प्रसार के लिए करवाया था। यहां काम विद्या के सोलह विशेष आसनों का उत्कृष्ट प्रदर्शन दर्शनीय है।


 नेपाली मंदिर को देखने के बाद स्वतः आपको खुजराहो के शिल्प और कोणार्क की कलाकृतियों याद आ जाएगीं। यहां आकर देखने के बाद ऐसा लगता है कि इस मंदिर का निर्माण किसी विशेष उद्देश्य की संपूर्ति हेतु कराया गया। 


यहां सालों भर देशी-विदेशी पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है। मान्यता है कि यहां आने से श्रद्धालुओं के मन में कोई विकार नहीं रह जाता है एवं चित शांत और प्रसन्न हो जाता है। यहां प्रत्येक वर्ष पूरे श्रावण व कार्तिक माह में भक्तों के आगमन से विशाल मेला देखने को मिलता है। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि बिहार का यह मंदिर अपने अनूठी बनावट व शिल्पकला के लिए प्रसिद्ध है।