दुनिया की भीड़ से दूर चकराता में लें छुट्टियों का मजा

Daily news network Posted: 2019-01-11 19:12:58 IST Updated: 2019-01-11 19:12:58 IST
  • घूमने-फिरने की जब भी बात आती है तो हर किसी के मन में पहला ख्याल पहाड़ों की तरफ जाता है। इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता कि वहां के लोग तो पहाड़ों को तन्हा छोड़कर मैदानी इलाकों में आ बसे हैं।

नई दिल्ली।

घूमने-फिरने की जब भी बात आती है तो हर किसी के मन में पहला ख्याल पहाड़ों की तरफ जाता है। इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता कि वहां के लोग तो पहाड़ों को तन्हा छोड़कर मैदानी इलाकों में आ बसे हैं। खैर आपका घूमने का मन हो तो उत्तराखंड में देहरादून के पास एक जगह है चकराता, जहां के बारे में बहुत कम लोगों को पता है और यही कारण है कि वहां भीड़-भाड़ भी ना के बराबर है।

 


 चकराता: प्रकृति प्रेमियों की सैरगाह

 

 यह छोटा और सुंदर पहाड़ी नगर है, जहां आप प्रकृति की खूबसूरती का जमकर लुत्फ उठा सकते हैं। चकराता को शांतिपसंद लोगों के लिए उनके 'सपनों का नगर' कहा जाता है।


 क्या है खास: कैम्पिंग, राफ्टिंग, ट्रेकिंग, सनसेट पॉइंट, वॉटरफॉल, रैपलिंग, रॉक क्लाइम्बिंग, हॉर्स राइडिंग आदि के अच्छे विकल्प मौजूद हैं।


 क्या देखें: टाइगर फॉल, लाखमंडल, मोइगड झरना, कानासर, रामताल गार्डन, देव वन।

 


 कब जाएं: मार्च से जून और अक्टूबर से दिसंबर यहां जाने के लिए उपयुक्त है। सर्दियों में यहां बहुत ठंड पड़ती है।

 


 कैसे जाएं: नजदीकी रेलवे स्टेशन देहरादून और एयरपोर्ट जौलीग्रांट है। चकराता जाने के लिए यहां से बस या टैक्सी ली जा सकती हैं। दिल्ली से यह तकरीबन 320 किलोमीटर की दूर है और पहुंचने में 7 घंटे लगते हैं।


 कहां ठहरें: ठहरने के लिए अच्छे होटलों की यहां कोई कमी नहीं है। कुछ टूरिस्ट होम भी आपको मिल जाएंगे।