प्रकृति प्रेमी हैं तो घूम आएं झरनों और मंदिरों का खूबसूरत शहर अमरकंटक

Daily news network Posted: 2020-02-03 17:13:30 IST Updated: 2020-02-03 17:18:57 IST
  • मध्य प्रदेश के अनूपपुर जिले में स्थित अमरकंटक नर्मदा, सोन और जोहिला नदी का उद्गम स्थल है और हिंदुओं के लिए पवित्र जगह है।

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश के अनूपपुर जिले में स्थित अमरकंटक नर्मदा, सोन और जोहिला नदी का उद्गम स्थल है और हिंदुओं के लिए पवित्र जगह है। मैकाल की पहाड़ियों में स्थित अमरकंटक समुद्र तल से 1065 मीटर ऊंचाई पर है, जहां मध्य भारत के विंध्य और सतपुड़ा की पहाड़ियों का मेल होता है। यहीं से नर्मदा नदी पश्चिम की ओर, जबकि सोन नदी पूर्व की ओर बहती है। 



 धार्मिक प्रवृत्ति और प्रकृति से प्रेम करने वाले लोगों के लिए यह अद्भुत जगह हैं। कहा जाता है कि भगवान शिव की पुत्री नर्मदा यहां जीवनदायिनी नदी के रूप में बहती है। माता नर्मदा को समर्पित यहां अनेक मंदिर बने हुए हैं, जिन्हें दुर्गा की प्रतिमूर्ति माना जाता है। कहा जाता है कि भगवान शिव और उनकी पुत्री नर्मदा यहां निवास करते थे।


 अमरकंटक का यह गर्म पानी का झरना है। कहा जाता है कि यह झरना औषधीय गुणों से परिपूर्ण है और इसमें स्नान करने कई रोगों में आराम होता है। दूधधारा झरना भी काफी लोकप्रिय है। ऊंचाई से गिरते इस झरने का जल दूध की तरह दिखता है।


 


नर्मदाकुंड से 1.5 किलोमीटर की दूरी पर मैकाल पहाड़ियों के किनारे स्थित सोनमुदा से अमरकंटक की घाटी और जंगल से ढकी पहाडियों को देखा जा सकता है। 100 फीट ऊंची पहाड़ी से एक झरने के रूप में सोन नदी यहां से गिरती है। 100 फीट की ऊंचाई से गिरने वाला कपिलधारा झरना भी बहुत सुंदर दिखता है। कहा जाता है कि कपिल मुनि यहीं रहते थे। यहां कपिलेश्वर मंदिर भी बना हुआ है और आसपास कई गुफाएं भी हैं।

 



भरी बगिया के बारे में कहा जाता है कि शिव की पुत्री नर्मदा यहां पुष्प चुनती थीं। यह बगिया नर्मदाकुंड से एक किमी दूरी पर है। कबीरपंथियों के लिए कबीर चबूतरे का बहुत महत्व है। कहा जाता है कि संत कबीर ने कई वर्षों तक इसी चबूतरे पर ध्यान लगाया था। इन स्थलों के अलावा आप यहां सर्वोदय जैन मंदिर, जवालेश्वर महादेव मंदिर, सनसेट प्वाइंट जैसी कई जगहें हैं।

 


 


अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360