पी.वी. सिंधू ने रचा इतिहास, विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय

Daily news network Posted: 2019-08-26 10:15:32 IST Updated: 2019-08-26 16:53:57 IST
  • भारत की पी.वी. सिंधू ने जापान की नोजोमी ओकुहारा को रविवार को 38 मिनट में 21-7, 21-7 से हराकर विश्व बैडमिंटन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतकर नया इतिहास रच दिया। सिंधू विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं।

बासेल/गुवाहाटी।

भारत की पी.वी. सिंधू ने जापान की नोजोमी ओकुहारा को रविवार को 38 मिनट में 21-7, 21-7 से हराकर विश्व बैडमिंटन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतकर नया इतिहास रच दिया। सिंधू विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं।

 


 सिंधू ने बड़े टूर्नामेंट के फाइनल में हारने का गतिरोध आखिर रविवार को तोड़ा और वह भारत की बैडमिंटन में पहली विश्व चैंपियन बन गईं। सिंधू की इस उपलब्धि पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय खेल मंत्री सहित भारतीय बैडमिंटन संघ के पदाधिकारियों ने बधाई दी है।

 


 खास-खास

 5वां पदक सिंधू का विश्व चैंपियनशिप में, 2017 और 2018 में रजत, 2013 और 2014 में कांस्य पदक


10वां पदक भारतीय खिलाड़ी का विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में, पांच सिंधू, दो सायना, 1-1 प्रणीत और प्रकाश पादुकोण, एक महिला युगल में ज्वाला गुट्टा-अश्विनी पोनप्पा को

 -9-7 जीत-हार का रिकॉर्ड ओकुहारा के खिलाफ।


 विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में 10 पदक

 भारत के विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप के इतिहास में अब कुल 10 पदक हो गए हैं जिनमें एक स्वर्ण, तीन रजत और छह कांस्य पदक शामिल हैं। इन 10 पदकों में अकेले सिंधू की पांच पदकों की भागीदारी है। भारत का किसी विश्व चैंपियनशिप में यह अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। इससे पहले 2017 में सिंधू ने रजत और सायना नेहवाल ने कांस्य पदक जीता था।

 


 भारत को चैंपियनशिप में दूसरा पदक पुरुष एकल में कांस्य के रुप में मिला। बी साई प्रणीत को सेमीफाइनल में हारने के बाद कांस्य से संतोष करना पड़ा। प्रणीत ने इसके बावजूद इतिहास बनाया और वह महान प्रकाश पादुकोण के 1983 में कांस्य पदक जीतने के 36 साल बाद इस प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय पुरुष खिलाड़ी बन गए। इस बीच महिला युगल में टॉप सीड जापानी जोड़ी मायु मत्सुमोतो और वकाना नागाहारा ने दूसरी सीड हमवतन जोड़ी युकी फुकुशिमा और सयाका हिरोता को एक घंटे 25 मिनट में 21-11, 20-22, 23-21 से हराकर खिताब जीता।


 सिंधू को 20 लाख और प्रणीत को 5 लाख के पुरस्कार की घोषणा

 भारतीय बैडमिंटन संघ ने विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बनी पीवी सिंधू को 20 लाख रुपये का नगद पुरस्कार देने की घोषणा की है। बैडमिंटन संघ ने इसके अलावा कांस्य पदक जीतने वाले बी साई प्रणीत को पांच लाख रुपये का नगद पुरस्कार देने की भी घोषणा की है। संघ के अध्यक्ष हिमांता बिस्वा सरमा ने दोनों खिलाडिय़ों को इस उपलब्धि पर बधाई दी है।



 मिली बधाई

 सिंधू के स्वर्णिम जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, खेल मंत्री किरेन रिजिजू सहित कई नेताओं ने शुभकामनाएं दी है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने रविवार को विश्व बैडमिंटन चैपियनशिप में पी. वी. सिंधू को स्वर्ण पदक जीतने पर बधाई दी। इसके अलावा केन्द्रीय रक्षा राज्य मंत्री और आयुष (स्वतंत्र प्रभार) मंत्री श्रीपद नाइक ने रविवार को पी. वी. सिंधू को बीडब्ल्यूएफ विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर देश के लिए एक नया इतिहास रचने पर बधाई दी।