ओलम्पिक में शानदार प्रदर्शन के लिए मोदी सरकार उठाने जा रही है ऐसा बड़ा कदम

Daily news network Posted: 2019-07-28 11:33:07 IST Updated: 2019-07-28 11:33:07 IST
ओलम्पिक में शानदार प्रदर्शन के लिए मोदी सरकार उठाने जा रही है ऐसा बड़ा कदम
  • वर्ष 2020 और 2024 में होने वाले ओलम्पिक खेलों के लिए रणनीति बनाने के उद्देश्य से खेल मंत्रालय एक उच्च स्तरीय बैठक करेगा। खेल मंत्री किरण रिजिजू की अध्यक्षता में समिति यह सुनिश्चित करेगी कि ओलम्पिक और अन्य टूर्नामेंट में भारतीय खिलाडि़यों के प्रदर्शन को बेहतर किया जाए।

नई दिल्ली।

वर्ष 2020 और 2024 में होने वाले ओलम्पिक खेलों के लिए रणनीति बनाने के उद्देश्य से खेल मंत्रालय एक उच्च स्तरीय बैठक करेगा। खेल मंत्री किरण रिजिजू की अध्यक्षता में समिति यह सुनिश्चित करेगी कि ओलम्पिक और अन्य टूर्नामेंट में भारतीय खिलाडि़यों के प्रदर्शन को बेहतर किया जाए।


 समिति में ओलम्पिक पदक विजेता लियंडर पेस और गगन नारंग जैसे कई दिग्गज भारतीय खिलाड़ी शामिल हैं। इसके अन्य सदस्यों में खेल विभाग के सचिव श्याम जुलानिया राधे, आईओए अध्यक्ष राजीव मेहता, आईओए महासचिव नरिंदर बत्रा, भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के अध्यक्ष अदिले सुमारिवाला और बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के प्रमुख अजय सिंह शामिल हैं।


 टोक्यो ओलम्पिक के लिए समिति का उद्देश्य संभावित और योग्य खिलाडि़यों को हर संभव सहायता प्रदान करना होगा जिससे इन खेलों में भारतीय एथलीटों की भागीदारी सुचारू रूप से व्यवस्थित हो सके।


 राष्ट्रमंडल खेलों के बहिष्कार का रास्ता खुला


 भारत की दिग्गज निशानेबाज हिना सिद्धू ने हाल ही में कहा था कि भारत को 2022 में बर्मिघम में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के बहिष्कार के बारे में विचार करना चाहिए। हिना ने यह बात तब कही थी जब निशानेबाजी को अगले राष्ट्रमंडल खेलों में शामिल न करने का फरमान सुना दिया गया है।

 


 हिना को अब भारतीय ओलम्पिक संघ (आइओए) के अध्यक्ष नरेंदर बत्रा का समर्थन मिला है, जिन्होंने कहा कि खेलों का बहिष्कार एक विकल्प हो सकता है। बत्रा ने खेल मंत्री किरण रिजिजू को ई.मेल भेजकर इस बात की जानकारी दे दी है कि आइओए सदस्यों के बीच इस बात पर अनऔपचारिक चर्चा शुरू हो चुकी है।