हार कर भी असम का दिल जीत गईं हीमा दास, हिमंता ने बढ़ाया हौसला

Daily news network Posted: 2018-04-12 14:43:45 IST Updated: 2018-04-12 18:18:24 IST
  • भारतीय धावक हीमा दास यहां जारी 21वें राष्ट्रमंडल खेलों के सातवें दिन बुधवार को महिलाओं की 400 मीटर स्पर्धा के फाइनल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के बाद भी हार गईं।

गुवाहाटी।

भारतीय धावक हीमा दास यहां जारी 21वें राष्ट्रमंडल खेलों के सातवें दिन बुधवार को महिलाओं की 400 मीटर स्पर्धा के फाइनल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के बाद भी हार गईं। फाइनल में वह 51.32 सेकेंड का समय निकालते हुए छठे स्थान पर रहीं। यह हीमा का व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है, लेकिन अपना सर्वश्रेष्ठ देने के बाद भी वह पदक तक नहीं ला पाईं।




 



हालांकि हीमा देश के पदक तो नहीं ला पाई, लेकिन उन्होंने अपने राज्य असम का नाम जरूर रोशन किया है। वहीं इस हार के बाद भी असम के लोग हीमा के प्रदर्शन से काफी खुश नजर आए। असम सरकार में कैबिनेट मंत्री और उत्तर पूर्वी डेमोक्रेटिक एलायंस (एनईडीए) के संयोजक हिमंता बिश्व शर्मा ने सोशल मीडिया साइट फेसबुक पर एक पोस्ट के जरिए असम की इस धावक की हौसला अफजाई की है। उन्होंने फेसबुक पर लिखा कि आपने बहुत कम समय में करियर की नई बुलंदियों को छू लिया है, आपने मीलों का सफर तय किया। मैं आपके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं। कॉमनवैल्थ गेम्स में आपने जो परफोर्मेंस दी, वो बेहद ही शानदार है। ये आपके करियर को काफी आगे ले जाने में मददगार होगी। 


 



फाइनल में पहुंच हीमा ने सबको चौंकाया था

बता दें कि हिमा दास ने महिला 400 मीटर में 51.53 सेकंड का अपना निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए फाइनल में जगह बनाकर सबको चौंका दिया था।  वह सेमीफाइनल में तीसरे स्थान पर रहीं जबकि फाइनल में जगह बनाने वाली आठ धावकों में उन्होंने सातवां सबसे तेज समय निकाला। उन्होंने अपने निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में 0.44 सेकंड का सुधार किया था। हिमा ने राष्ट्रमंडल खेलों के लिए क्वॉलिफाइ करके सभी को हैरान किया था। बता दें कि हिमा दास के क्वालीफाई करने के बाद प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रंजीत दास ने उन्हें बधाई दी थी। नगांव के कादुलीमारी गांव की रहने वाली हिमा को बधाई देते हुए रंजीत दास ने कहा था कि पहली बार प्रदेश की किसी धावक ने राष्ट्रमंडल खेलों में अपनी प्रतिभा को दिखाकर देश का नाम रोशन किया है। उन्होंने कहा था कि राज्य में खासकर खेल के क्षेत्र में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है और राज्य सरकार इन प्रतिभाओं को आगे बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। वहीं असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने भी ट्वीट कर हिमा दास को शुभकामनाएं दी थीं। 




 

बोत्सवाना के खाते में गया गोल्ड

स्पर्धा का स्वर्ण बोत्सवाना की अमांताले मोंटशो के नाम रहा, जिन्होंने 50.15 सेकेंड का समय निकाला। रजत पर जैमका की अनास्तासिया ली रॉय के नाम रहा, जिन्होंने अपनी व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ देते हुए 50.57 सेकेंड का समय निकाला। स्पर्धा का कांस्य भी जमैका की स्टफेनी मैक्पेहरसन के नाम रहा, जिन्होंने 50.93 सेकेंड का समय निकाला।