महिला मुक्केबाजों का धमाका, राष्ट्रीय महिला चैम्पियनशिप के फाइनल में 8 मुक्केबाज

Daily news network Posted: 2019-12-08 09:15:39 IST Updated: 2019-12-08 09:15:39 IST
महिला मुक्केबाजों का धमाका, राष्ट्रीय महिला चैम्पियनशिप के फाइनल में 8 मुक्केबाज
  • गत चैम्पियन रेलवे की आठ मुक्कबाजों ने शनिवार को मुंडायाड इंडोर स्टेडियम में जारी चौथी इलीट महिला राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में अपना वर्चस्व कायम करते हुए फाइनल में स्थान पक्का कर लिया।

कन्नूर/गुवाहाटी।

गत चैम्पियन रेलवे की आठ मुक्कबाजों ने शनिवार को मुंडायाड इंडोर स्टेडियम में जारी चौथी इलीट महिला राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में अपना वर्चस्व कायम करते हुए फाइनल में स्थान पक्का कर लिया। फाइनल में पहुंचने वालों में विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली सोनिया चहल (57 किग्रा) और इंडिया ओपन में स्वर्ण जीतने वाली भाग्यवती काचारी (75 किग्रा) शामिल हैं।


 2016 की राष्ट्रीय चैम्पियन सोनिया ने अपने अनुभव और समय की बदौलत चंडीगढ़ की युवा मुक्केबाज रितु को दोयम साबित किया। हरियाणा की मुक्केबाज ने अपनी ऊंचाई का फायदा उठाकर रितु पर काउंटर पंच किए और 5-0 से मुकाबला अपने नाम किया। फाइनल में उनका सामना युवा वर्ल्ड चैम्पियन साक्षी से होगा।

 


 युवा वर्ल्ड चैम्पियन ज्योति ने रेलवे का प्रतिनिधित्व करते हुए मणिपुर की सोइबाम देवी को आसानी से 5-0 से हराकर 51 किग्रा कटेगरी के फाइनल में प्रवेश किया। विश्व चैम्पियनशिप में दो बार की कांस्य पदक विजेता कविता चहल (81 किग्रा) और हिमाचल प्रदेश की मोनिका के बीच मुकाबला हुआ। दोनों ने पहले राउंड में शानदार खेल दिखाया।

 


 अनुभवी कविता ने हालांकि अपना दमखम दिखाते हुए यह मैच 3-2 से अपने नाम कर लिया। पिछले वर्ष की स्वर्ण पदक विजेता मीना कुमारी देवी (54 किग्रा) ने अपने खिताब की रक्षा की ओर कदम बढ़ाते हुए मध्य प्रदेश की दिव्या पवार को 5-0 से हराया जबकि बीते साल की रजत पदक विजेता भाग्यवती काचारी ने भी अपना शानदार फार्म जारी रखते हुए ऑल इंडिया पुलिस की लालफाकमावी राल्ते को 5-0 से हराया और फाइनल में पहुंच गईं।

 


 केरल की इंद्राजा ने 75 किग्रा वर्ग में उलटफेर करते हुए पिछले वर्ष की कांस्य पदक विजेता इमरोज खान को 4-1 से हराया। घरेलू दर्शकों की हौसलाअफजाई के बीच खेल रहीं इंद्राजा ने शानदार अटैक अप्रोच के साथ इमरोज को परास्त किया। अब इंद्राजा का सामना गत वर्ष की रजत पदक विजेता हरियाणा की नुपुर से होगा। पूर्व युवा विश्व चैम्पियन अंकुशिता बोरो ने 64 किग्रा में असम का प्रतिनिधित्व करते हुए उत्तर प्रदेश की अराधना पटेल को हराया।

 


 इस मुकाबले का फैसला आरएससी से हुआ। यह दूसरे राउंड में खत्म हुआ। अब सोना के लिए अंकुशिता का सामना असम की ही प्वीलाओ बासुमेतारी से होगा, जो रेलवे के लिए खेल रही हैं। पूर्व एशियाई चैम्पियनशिप रजत पदक विजेता पवित्रा ने 60 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में अपना वर्चस्व दिखाते हुए महाराष्ट्र की पूनम खैतवास को 5-0 से हराया। अब उनका सामना 2017 की युवा विश्व चैम्पियन हरियाणा की साक्षी चोपड़ा से होगा। साक्षी ने ऑल इंडिया पुलिस की रेखा तेवतिया को 5-0 से हराया। फाइनल मुकाबलों में रेलवे की आठ और हरियाणा की पांच मुक्केबाज सर्वोच्च खिताब के लिए खेलती दिखेंगी।