असम NRC को लेकर विदेश मामलों के प्रवक्ता ने दिया बड़ा बयान

Daily news network Posted: 2018-08-10 09:23:15 IST Updated: 2018-08-10 15:11:04 IST

विदेश मामलों के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि असम एनआरसी से भारत और बांग्लादेश के साथ अच्छे संबंधों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि हम बांग्लादेश के साथ एनआरसी  मुद्दे पर बातचीत कर रहे हैं।बांग्लादेश को पहले और नए एनआरसी ड्राफ्ट की जानकारी है. बांग्लादेश को भी जानकारी दी है कि यह केवल सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में बना ड्राफ्ट है। असम में भारतीय नागरिकों की पहचान अभी भी जारी है। बांग्लादेश सरकार एनआरसी मुद्दे को भारत की आंतरिक समस्या समझ रही है।

 

 


बता दें इससे पहले बांग्लादेश के सूचना मंत्री हसन उल हक ने इस मुद्दे को भारत का आंतरिक मुद्दा बताते हुए अपना पल्ला झाड़ लिया था। उन्होंने कहा था, यह भारत और असम का आंतरिक मामला है, बांग्लादेश का इस मामले से कुछ लेना-देना नहीं है और न ही ये लोग (40 लाख) हमारे हैं। हो सकता है कि वे असम के पड़ोसी राज्यों के हों इसलिए इस मामले में बांग्लादेश की भागीदारी का कोई मामला नहीं उठता।

 



गौरतलब है कि असम के राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) का दूसरा और आखिरी ड्राफ्ट जारी हो चुका है। इसमें 3.29 करोड़ आवेदकों में से 2.90 करोड़ आवेदक वैध पाए गए हैं। 40 लाख आवेदकों का नाम ड्राफ्ट से गायब है।बता दें कि असम में एनआरसी का पहला ड्राफ्ट पिछले साल दिसंबर के आखिर में जारी हुआ था। पहले ड्राफ्ट में 3.29 करोड़ आवेदकों में से 1.9 करोड़ लोगों के नाम शामिल किए गए थे।