45-55 किमी प्रति घंटा की तेज हवाओं के साथ भारी बारिश की चेतावनी जारी, इन राज्यों में बरसेगी आफत

Daily news network Posted: 2019-08-13 09:38:46 IST Updated: 2019-08-13 09:38:46 IST
45-55 किमी प्रति घंटा की तेज हवाओं के साथ भारी बारिश की चेतावनी जारी, इन राज्यों में बरसेगी आफत
  • मॉनसून मध्य महाराष्ट्र और केरल में सक्रिय है तथा अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागलैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल तथा सिक्किम के उप हिमालयी क्षेत्र, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान, मध्य प्रदेश, मराठवाड़ा, विदर्भ, छतीसगढ़, आंध्र प्रदेश तथा आंतरिक...

नई दिल्ली/गुवाहाटी।

तमिलनाडु, ओडिशा, गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक तथा केरल, लक्ष्यद्वीप और अंडमान एवं निकोबार द्वीप के तटीय इलाकों में अगले 24 घंटे के दौरान तेज हवाओं के साथ भारी बारिश के आसार हैं। इस दौरान दक्षिण पश्चिमी, मध्य तथा उत्तरी अरब सागर, उत्तरी एवं पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी समेत उक्त राज्यों में 45 से 55 किलोमीटर की रफ्तार से तेज हवायें बहने की संभावना है। मछुआरों को इस दौरान समुद्र में नहीं उतरने की सलाह दी गयी है।

 

 


 मौसम विभाग ने सोमवार को बताया कि ओडिशा,उत्तराखंड, कर्नाटक के तटीय इलाके, पश्चिम बंगाल में गंगा के तटीय इलाके, केरल, माहे, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पूर्वी उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश तथा बिहार, झारखंड, कोंकण, गोवा, मध्य महाराष्ट्र के तटवर्तीय इलाके और आंध्र प्रदेश, तेलंगाना एवं आंतरिक कर्नाटक के अलग-अलग क्षेत्रों में तेज बारिश होने के आसार है। इस दौरान मौसम विभाग ने 45-55 किलोमीटर प्रति घंटे तक रफ्तार से तेज हवाएं चलने और मछुआरों को तटीय क्षेत्रों में नहीं जाने की चेतावनी भी दी है।

 


 मॉनसून मध्य महाराष्ट्र और केरल में सक्रिय है तथा अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागलैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल तथा सिक्किम के उप हिमालयी क्षेत्र, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान, मध्य प्रदेश, मराठवाड़ा, विदर्भ, छतीसगढ़, आंध्र प्रदेश तथा आंतरिक कर्नाटक में मॉनसून का असर कम हुआ है। पिछले 24 घंटो में उत्तराखंड, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, झारखण्ड, बिहार, छत्तीसगढ़, ओडिशा, आंध्र प्रदेश के तटीय इलाके, अंडमान और निकोबार द्वीप तथा पश्चिम बंगाल और सिक्किम के कुछ इलाकों में गरज के साथ छींटे पड़े।

 

 


 इसके अलावा कोंकण, गोवा, केरल, अंडमान और निकोबार द्वीप, पश्चिम बंगाल में गंगा के तटीय इलाके, ओडिशा, उत्तराखंड, गुजरात, मध्य महाराष्ट्र और कर्नाटक के तटीय इलाके इस दौरान बारिश से प्रभावित रहे। साथ ही नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, झारखण्ड, बिहार, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, पश्चिमी और पूर्वी राजस्थान, पश्चिमी और पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, आतंरिक कर्नाटक के उत्तरी और दक्षिणी क्षेत्र, लक्ष्यद्वीप, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, पश्चिम बंगाल और सिक्किम के उप हिमालयी क्षेत्र, पश्चिमी और पूर्वी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, मराठवाड़ा, आंध्र प्रदेश के तटीय इलाके, रायलसीमा तथा तमिलनाडु में भी विभ्भिन स्थानों पर भी बारिश हुयी या गरज के साथ छींटे पड़े।