उड़ाई धारा 144 की धज्जियां, मूक दर्शक बनी पुलिस

Daily news network Posted: 2019-02-12 12:06:12 IST Updated: 2019-02-12 12:06:12 IST
उड़ाई धारा 144 की धज्जियां, मूक दर्शक बनी पुलिस
  • चाय जनजातियों सहित छह समुदायों को जनजाति का दर्जा देने की मांग को लेकर आसा द्वारा बुलाया गया 12 घंटे के बंद के दौरान राष्टीय राजमार्ग बुरी तरह प्रभावित रहा ।

असम

गोहपुर । चाय जनजातियों सहित छह समुदायों को जनजाति का दर्जा देने की  मांग को लेकर आसा द्वारा बुलाया गया 12 घंटे के बंद के दौरान राष्टीय राजमार्ग  बुरी तरह प्रभावित रहा । सुबह से की बंद समर्थक सड़क पर डेरा डाले हुए थे । गोहपुर के पुरूपबाड़ी में राष्टीय राजमार्ग- 15 पर विरोध प्रदर्शन कर सड़क जाम  कर दिया । देखते ही देखते गाडियों की लंबी लाइन लग गई । प्रदर्शनकारियों  का प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा । 



अपने विरोध को साबित करने के लिए प्रदर्शनकारी राष्टीय राजमार्ग पर बैठकर सरकार और प्रघानमंत्री के खिलाफ जबर्दस्त नारेबाजी की । हालांकि पुलिस और सेना के सुरक्षा कर्मी भी मोजूद थे पर बंद समर्थक जिला भर में लागू धारा 144 की धज्जियां उड़ाते रहे । बंद के चलते कई स्कूल, बैंक की सेवाएं बाधित हुई । जिला प्रशासन द्वारा जारी धारा 144 के बाद आज हुए जन जमाव और प्रदर्शन के बाद लोगों ने प्रशासन की क्षमता पर सवाल उठाने लगे । बंद से प्रभावित लोग जिन्हें यह मालूम है कि विश्वनाथ में धारा 144 लागू है, वे सुरक्षा बलों पर ही सवाल उठा रहे थे कि बंद समर्थकों द्वारा जारी  विरोध प्रदर्शन के दौरान सुरक्षाबल की भूमिका क्या होनी चाहिए ।