पढ़े-लिखे युवाओं से अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने का प्रयास कर रहा है उग्रवादी संगठन

Daily news network Posted: 2019-05-29 14:36:47 IST Updated: 2019-05-29 14:49:09 IST
पढ़े-लिखे युवाओं से अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने का प्रयास कर रहा है उग्रवादी संगठन
  • प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन अल्फा के परेश गुट के निशाने पर पढ़े-लिखे व शिक्षित नौजवान हैं, जिनके जरिए संगठन में पुनः जान फूंकने की प्रक्रिया जोर-शोर से जारी है। ऐसे पढ़े-लिखे युवकों के जरिए अल्फा न केवल अपने संगठन को मजबूत करना चाहता है, बल्कि उनके जरिए आर्थिक बदहाली से उबरने का .....

गुवाहाटी

प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन अल्फा के परेश गुट के निशाने पर पढ़े-लिखे व शिक्षित नौजवान हैं, जिनके जरिए संगठन में पुनः जान फूंकने की प्रक्रिया जोर-शोर से जारी है। ऐसे पढ़े-लिखे युवकों के जरिए अल्फा न केवल अपने संगठन को मजबूत करना चाहता है, बल्कि उनके जरिए आर्थिक बदहाली से उबरने का नया रास्ता भी तलाश रही है। इस बात का सनसनीखेज खुलासा गुवाहाटी के पुलिस आयुक्त दीपक कुमार ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान किया।


 पुलिस आयुक्त ने कहा कि आर्थिक तंगी के चलते अल्फा का परेश गुट पढ़े-लिखे युवकों के दिमाग का इस्तेमाल कर नए-नए तरीके अपनाने का प्रयास कर रहा है। उन्होंने जूरोड ग्रेनेड विस्फोट में गिरफ्तार गौहाटी विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष संजीव तालुकदार का हवाला दिया। पुलिस के अनुसार गिरफ्तार संजीव अल्फा प्रमुख प्रेश बरुवा का काफी करीबी था।

 

 

 उन्होंने कहा कि पूछताछ के दौरान पकड़े गए आरोपी ने परेश बरुवा से पांच-छह बार बातचीत होने की बात कबूली है। धमाके से पहले बरुवा ने संजीव को अल्फाई बिजय असम का फोन नं. भेजा था और अल्फा की मदद करने को कहा था। पुलिस आयुक्त के अनुसार पढ़े -लिखे युवकों के जरिए अल्फा अपनी शक्ति को बढ़ाना चाहता है जिसके जरिए संगठन नए-नए-तरीके से न केवल अपनी वारदात को अंजाम दे सके बल्कि संगठन को भी मजबूत कर सके।