'त्रिपुरा में वाम का वही हश्र होगा जो पश्चिम बंगाल में हुआ'

Daily news network Posted: 2018-02-12 09:48:43 IST Updated: 2018-02-12 09:48:43 IST
'त्रिपुरा में वाम का वही हश्र होगा जो पश्चिम बंगाल में हुआ'
  • केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि त्रिपुरा में भाजपा माकपा की अगुवाई वाले सत्तारुढ़ वाम मोर्चे की मुख्य प्रतिद्वंद्वी के रूप में उभरी है।

अगरतला।

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि त्रिपुरा में भाजपा माकपा की अगुवाई वाले सत्तारुढ़ वाम मोर्चे की मुख्य प्रतिद्वंद्वी के रूप में उभरी है। उन्होंने यहां अपनी पार्टी का त्रिपुरा चुनाव घोषणापत्र- विजन दस्तावेज त्रिपुरा-2018 जारी करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि राज्य में दो राजनीतिक स्थान है गैर वाम और वाम। भाजपा ने पूरी गैर वाम जगह को भर दिया है।


 उन्होंने कहा कि भाजपा राज्य में माकपा की मुख्य प्रतिद्वंद्वी के रुप में उभरी है। भगवा दल ने इस पूर्वोत्तर राज्य में 18 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव में वाममोर्चा से टक्कर लेने के लिए इंडिजीनियस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा के साथ गठजोड़ किया है। इसके साथ ही  केंद्रीय वित्त मंत्री ने यह भी दावा किया कि त्रिपुरा में वाम मोर्चा का वही हश्र होगा जो पश्चिम बंगाल में हुआ।

 

 

 इसके अलावा उन्होंने कहा पश्चिम बंगाल में माकपा के आतंक से लोगों में वह घृणा का पात्र बन गयी है। जिसके चलते उसका सूपड़ा साफ हो गया.  हाल में हुए उपचुनावों में भी पार्टी तीसरे या चौथे स्थान पर रही. ’’ जेटली ने कहा कि त्रिपुरा पिछड़ा रहा है क्योंकि माकपा ने राज्य में निजी पूंजी का कभी स्वागत नहीं किया. उन्होंने कहा, ‘‘त्रिपुरा में सरकार बनाने के बाद भाजपा खाद्य प्रसंस्करण, बांस, आईटी, कपड़े जैसे क्षेत्रों के लिए विशेष आर्थिक क्षेत्र बनाएगी ।

 

 

 आपको बात दें कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह त्रिपुरा के दौर पर जहां पर उन्होंने कल रोड शो आैर चुनावी रैलियों का संबोधित किया आैर लोगों से त्रिपुरा में सत्तारूढ ‘लाल भाई’ की सरकार उखाड़ फेंकने की अपील की। उन्होंने वाम दल के कार्यकर्ताओं पर विकास के लिये धन की लूट करने का आरोप लगाया. भाजपा के पक्ष में लोगों से मतदान करने की अपील करते हुए शाह ने दावा किया कि राज्य में अगर उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो यह सूबा एक आदर्श राज्य बनेगा।