त्रिपुरा में लेनिन की प्रतिमा तोड़ने का विरोध, लेफ्ट पार्टियों ने फूंका मोदी का पुतला

Daily news network Posted: 2018-03-12 16:42:01 IST Updated: 2018-03-12 17:26:29 IST
  • त्रिपुरा में लेनिन प्रतिमा तोड़े जाने के विरोध में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्कसवादी) द्वारा स्थानीय बस अड्डे पर मोदी सरकार की अर्थी फूंक कर विरोध प्रदर्शन किया।

अगरतला

त्रिपुरा में लेनिन की प्रतिमा तोड़े जाने के विरोध में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्कसवादी) की ओर से प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंका गया। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि सत्ताधारियों का लेनिन की विचारधारा का डर सता रहा है और इसके के चलते उनकी मूर्तियों को तोड़ा गया। 

 

 

प्रदर्शन की अगुवाई सीपीआई के प्रदेश कौंसल सदस्य सुरेन्द्र ढंडिया, नत्था सिंह, गुरचरन अरोड़ा, परमजीत  ढाबा तथा छिंदर महालम ने की। इस रोष प्रदर्शन को संबोधित करते हुए सुरेन्द्र ढंडिया  और गुरचरन अरोड़ा ने कहा कि लैनिन की विचारधारा जिंदाबाद है और जिंदाबाद रहेगी।

 


  

 गौरतलब है कि त्रिपुरा में बीजेपी गठबंधन की जीत आैर माकपा की हार के बाद कई जगह सीपीएम के दफ्तरों को निशाना बनाया गया था। इस बीच वामपंथी विचारक व्लादिमीर लेनिन की दो मूर्तियों को भी गिरा दिया गया। इसे लेकर वामपंथी दलों ने बीजेपी व आईपीएफटी पर हिंसक और लोकतंत्र विरोधी कार्रवाई करने का आरोप लगाया।

 



बता दें कि त्रिपुरा के बेलोनिया टाउन में कॉलेज स्क्वेयर पर लगी लेनिन प्रतिमा को भी बुलडोजर की मदद से गिरा दिया गया था। त्रिपुरा में भाजपा सरकार बनने के बाद हुर्इ इन घटनाआें से वामपंथी दलों ने नाराजगी जतार्इ आैर ये आरोप है लगाया था कि भाजपा राज्य में भय फैला रही है। इसके अलावा बिहार में बीजेपी के सहयोगी दल जेडीयू के सांसद हरिवंश ने त्रिपुरा में हुई इस घटना की निंदा की थी।