ट्रंप के विरोध की कही थी बात, भाजपा नेता ने दिया विरोधियों को शर्मशार करने वाला जवाब

Daily news network Posted: 2020-02-14 10:46:54 IST Updated: 2020-02-14 10:46:54 IST
ट्रंप के विरोध की कही थी बात, भाजपा नेता ने दिया विरोधियों को शर्मशार करने वाला जवाब
  • विपक्ष एक नेता द्वारा भारत आ रहे डोनाल्ड ट्रप का विरोध करने की बात पर तगड़ा जवाब दिया गया है।

अगरतला

अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप 24 फरवरी को भारत आ रहे हैं। लेकिन विपक्ष एक नेता द्वारा उनका विरोध करने की बात कही गई थी। ट्रंप के विरोध की बात कहने वाले ये नेता मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी  के महासचिव सीताराम येचुरी है। उन्होंने कहा था कि उनकी पार्टी भारत में ट्रंप का विरोध करेगी। लेकिन उनको तगड़ा और शर्मशार करने वाला जवाब दिया गया है। यह जवाब त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने दिया है।

 

 

सीताराम येचुरी ने कहा है कि उनकी पार्टी डॉनल्ड ट्रंप के इस दौरे का विरोध करेगी। सीताराम येचुरी के इस बयान पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता और त्रिपुरा के सीएम बिप्लब कुमार देब ने येचुरी और लेफ्ट पार्टी का मजाक उड़ाया। बिप्लब देब ने ट्वीट करके पूछा कि क्या कुल तीन कार्यकर्ता विरोध करेंगे? दरअसल, बिप्लब देब ने भारत में सिमटती जा रही लेफ्ट पार्टियों पर तंज कसा। 

 

 

सीताराम येचुरी ने कहा कि उनकी पार्टी अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के भारत दौरे के समय प्रदर्शन करेगी क्योंकि वह भारत के हितों की कीमत पर अमेरिकी अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए आ रहे हैं। सीताराम येचुरी ने कहा कि 24-25 फरवरी के अपने दौरे के दौरान डॉनल्ड ट्रंप जहां भी जाएंगे लेफ्ट के कार्यकर्ता उनके खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा, 'दिल्ली हो या गुजरात, पार्टी के कार्यकर्ता निश्चित तौर पर प्रदर्शन करेंगे।' 

 

 

सीपीएम नेता सीताराम येचुरी के इसी बयान पर त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब ने उनका मजाक उड़ाया। बिप्लब देब ने अपने ट्विटर हैंडल पर सवास पूछने के लहजे में लिखा, 'पार्टी के कुल तीन कार्यकर्ता प्रदर्शन करेंगे?' दरअसल, बिप्लब देब भारत में सिमटते जा रहे लेफ्ट के वोटबैंक और उसके काडर को लेकर यह तंज कसा। आपको बता दें कि हाल ही में हुए दिल्ली विधानसभा के चुनाव में लेफ्ट पार्टियों को नोटा से भी कम वोट मिले।

 

 

ओडिशा में सीएए विरोधी रैली के इतर सीताराम येचुरी ने कहा, 'हमारी अर्थव्यवस्था को पूरी तरह खोलने के लिए अमेरिका दबाव बना रहा है और (नरेंद्र) मोदी सरकार घुटने टेक रही है। सीएए, अनुच्छेद 370 और अन्य मुद्दों पर मोदी को समर्थन के बदले में वह (ट्रंप) ऐसा फायदा चाहते हैं। यह एक हाथ से दो-एक हाथ से लो वाला संबंध है, जो कि भारत के हित में नहीं है । इसके अलावा, हम अपनी अर्थव्यवस्था को तबाह करते हुए अमेरिकी अर्थव्यवस्था को गति देने के वास्ते अमेरिकी सैन्य उपकरण खरीदने के लिए अरबों डॉलर खर्च करेंगे।’ 


अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360