पुलवामा हमले पर पहले जताया दुख, फिर लिखी ऐसी बात कि हो गई अरेस्ट

Daily news network Posted: 2019-02-19 09:53:54 IST Updated: 2019-02-19 09:56:18 IST
पुलवामा हमले पर पहले जताया दुख, फिर लिखी ऐसी बात कि हो गई अरेस्ट
  • पुलवामा हमले के बाद जहां एक तरफ लोग पाकिस्तान के लिए अपने गुस्से पर काबू नहीं कर पा रहे हैं और शोक में हैं, वहीं दूसरी ओर कुछ ऐसे भी शख्स हैं जो शहीदों के प्रति संवेदना व्यक्त करने की बजाय उनसे जवाब मांग रहे हैं।

गुवाहाटी

पुलवामा हमले के बाद जहां एक तरफ लोग पाकिस्तान के लिए अपने गुस्से पर काबू नहीं कर पा रहे हैं और शोक में हैं, वहीं दूसरी ओर कुछ ऐसे भी शख्स हैं जो शहीदों के प्रति संवेदना व्यक्त करने की बजाय उनसे जवाब मांग रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के आपत्तिजनक बयान के बाद अब गुवाहाटी की एक महिला प्रोफेसर को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है। हालांकि, बाद में उन्हें छोड़ दिया गया।

 


 बता दें कि प्रोफेसर ने सोशल मीडिया पर भारतीय सुरक्षा बलों के बारे में अपमानजनक कमेंट किया था। प्रोफेसर ने पहले जवानों की शहादत पर गम जताया। फिर सेना और सिक्योरिटी फोर्सेज पर अत्याचार का आरोप लगाया। इस विवादित कमेंट के बाद प्रोफेसर को कॉलेज प्रशासन ने भी जांच चलने तक सस्पेंड कर दिया है। बता दें, पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे। जिसके बाद से ही गुवाहाटी के आइकॉन कॉमर्स कॉलेज में इंग्लिश डिपार्टमेंट की असिस्टेंट प्रोफेसर पपरी जेड. बनर्जी की सोशल मीडिया पर की गई विवादास्पद टिप्पणियां वायरल हो रही हैं।


 बता दें कि हमले के अगले दिन बनर्जी ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा कि 45 युवा बहादुर कल मारे गए। ये कोई जंग नहीं है। उन्हें तो लड़ने का मौका ही नहीं दिया गया। ये बेहद कायराना हरकत है। इस घटना में हर भारतीय का दिल तोड़ दिया है। लेकिन, लेकिन, लेकिन, क्या सिक्योरिटी फोर्सेज ने घाटी में यही काम नहीं किया है। बनर्जी ने आगे लिखा, आपने उनकी औरतों के साथ रेप किया। आपने उनके बच्चों को अपंग बताया और उनका मर्डर किया। आपने उनके मर्दों की जान ली। आपकी मीडिया लगातार उन्हें राक्षस बताने पर लगी हुई है और आपको लगता है इसका बदला नहीं लेगा? क्या आप जानते हैं आतंकवाद इस्लामी हो सकता है, लेकिन कर्म बहुत ही भारतीय और सनातम अवधारणा है।

 


 इस पोस्ट के बाद ही लोगों मे गुस्सा बढ़ गया। प्रोफेसर की ये पोस्ट जैसे वायरल हुई, वैसे ही सोशल मीडिया पर लोगों की नाराजगी बढ़ने लगी। लोग उसे अरेस्ट करने की मांग करने लगे। बढ़ते दबाव को देखते हुए असम पुलिस ने गुवाहाटी के चंदमारी पुलिस स्टेशन पर महिला प्रोफेसर के खिलाफ मामला दर्ज किया और बाद में उसे अरेस्ट कर लिया गया।