'सवाल करने के बाद विधानसभा से भाग जाते हैं तरुण गोगोई'

Daily news network Posted: 2018-03-16 13:57:46 IST Updated: 2018-03-16 13:57:46 IST
'सवाल करने के बाद विधानसभा से भाग जाते हैं तरुण गोगोई'
  • असम के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने गुरुवार को पूर्व मुख्यमंत्री व वरिष्ठ कांग्रेस नेता तरुण गोगोई पर जमकर हमला बोला

गुवाहाटी।

असम के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने गुरुवार को पूर्व मुख्यमंत्री व वरिष्ठ कांग्रेस नेता तरुण गोगोई पर जमकर हमला बोला। सरमा ने कहा कि तरुण गोगोई विधानसभा में हिट एंड रन की पॉलिसी अपना रहे हैं। सरमा ने कहा कि उन्हें सदन का सामना करना चाहिए और सदन के अंदर ही बयान देने चाहिए।

 

 


सरमा ने विपक्षी दलों खासतौर पर कांग्रेस पर हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि पिछले दो साल के बजट प्रस्तावों के लिए कुछ भी नहीं किया गया। साल 2018-19 के बजट पर चर्चा के दौरान जवाब देते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री सदन में हिट एंड रन की नीति पर चलते हैं। उन्होंने बजट पर बहस के दौरान मुझ पर व्यक्तिगत हमले किए। जब मेरा टर्न आया तो वह सदन में मौजूद नहीं थे।

 

 

 


आपको बता दें कि 13 मार्च को बजट पर चर्चा के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने भाग लिया था। सरमा ने कहा कि गोगोई को सामना करना चाहिए और भागने व टीवी के सामने कमेंट करने की बजाय सदन के अंदर बयान देने चाहिए। सरमा ने कहा, स्पीकर महोदय मैंने कभी नहीं कहा कि तरुण गोगोई बेस्ट सीएम हैं। अगर वो इन लाइनों का सबूत नहीं दे सकते हैं तो उन्हें रिकॉर्ड से हटा देना चाहिए। मैंने कभी उनके बेटे गौरव गोगोई की तारीफ नहीं की और इसी वजह से मैं कांग्रेस में नहीं हूं।

 

 

 

 


आपको बता दें कि तरुण गोगोई 15 साल तक असम के मुख्यमंत्री रहे हैं। इस दौरान सरमा के पास बतौर कैबिनेट मंत्री कई विभाग थे। सरमा ने कहा कि गोगोई के बजट प्रस्तावों में कुछ भी इनोवेटिव नहीं है। गोगोई की वरिष्ठता के चलते किसी ने उन्हें जिम्मेदार नहीं ठहराया। हम उनकी वरिष्ठता का सम्मान करते हैं लेकिन वह सारी जिम्मेदारियां मुझ पर क्यों डालना चाहते हैं? क्या मैं ही कांग्रेस था? मैं सिर्फ मंत्री था। वरिष्ठ भाजपा नेता ने तरुण गोगोई की आलोचना करते हुए कहा कि वह हमेशा कहते हैं कि उन्होंने कभी दीनदयाल उपाध्याय के बारे में नहीं सुना तो फिर 2006-07 में उन्होंने दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर कैसे योजना की घोषणा की थी?