Congress छोड़ते ही इस परिवार पर कलिता ने साधा निशाना, कह दी ऐसी बात

Daily news network Posted: 2019-08-11 12:19:26 IST Updated: 2019-08-11 17:09:14 IST
  • कांग्रेस पार्टी का हाथ छोड़ने के कुछ ही वक्त बाद भुवनेश्वर कलिता ने कांग्रेस के खिलाफ बयान बाजी शुरू कर दी।

गुवाहाटी

कांग्रेस पार्टी का हाथ छोड़ने के कुछ ही वक्त बाद भुवनेश्वर कलिता ने कांग्रेस के खिलाफ बयान बाजी शुरू कर दी। कलिता ने अपने एक बयान में कहा है कि नई दिल्ली में सोनिया-राहुल और गुवाहाटी में गोगोई पिता-पुत्र। केंद्र और असम में कांग्रेस इनसे अलग नहीं हो पा रही। परिणाम सामने हैं। दशकों पार्टी में गुजार देने वाले नेताओं में हताशा चरण पर है। इस्तीफों की झड़ी लग गई है।

 


 

थामा भाजपा का दामन

 ज्ञात हो कि भुवनेश्वर कलिता हाथ छोड़ कमल को पकड़ चुके हैं। सेंट्यूस कुजुन ने भी वही रास्ता पकड़ लिया है। एक और कद्दावर नेता गौतर राॅय को प्रदेश कांग्रेस ने पार्टी से बर्खास्त कर दिया है। हालांकि उन्होंने भी कांग्रेस छोड़ने का दावा किया है। कलिता ने अपने मन की बात कहते हुए कहा कि नई दिल्ली में कांग्रेस नेहरू-गांधी परिवार की अनुगामी हो चुकी है। नेतृत्वहीनता की पराकाष्ठा है। संभव है, किसी को रात में अध्यक्ष बना दिया जाए, लेकिन वह नाम के लिए ही होगा। नेतृत्व तो वहीं से होगा, जहां से होता आया है।

 

 


कांग्रेस से निराश कलिता

 दूसरी तरफ, दिसपुर में भी सोनिया-राहुल को वही दिखता है, जो तरुण गोगोई और उनके पुत्र गौरव गोगोई दिखाते हैं। कोई अन्य नेता उभर कर नहीं आ पाता। आपको बता दें कि कलिता असम से लगातार तीन बार राज्यसभा जा चुके हैं। कांग्रेस छोड़ने के ठीक पहले तक वो राज्यसभा में उसके चीफ आफ व्हिप थे। केंद्र व राज्य में लगातार कांग्रेस नेतृत्व उन्हें महत्व देता आया है। फिर भी वर्तमान माहौल से वे पूरी तरह निराश हैं।

 

 


गोगोई परिवार पर साधा निशाना

 उन्होंने कहा कि कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व वही देखता है, जो राहुल से लगातार चिपके रहने वाले गौरव गोगोई असम के बारे में फीड करते हैं। तरुण गोगोई जो चाहते हैं, असम कांग्रेस में वही होता है। इतना लंबा समय बिताने के बाद अब अगर उनके पुत्र का नेतृत्व स्वीकार करना पड़े तो कौन सम्मान प्रिय नेता स्वीकार करेगा।

 


 प्रदेश कांग्रेस ने भी इस बीच हाथ छोड़ने वाले नेताओं पर निशान लगाना शुरू कर दिया है। पार्टी प्रवक्ता ऋतुपर्ण कोंवर ने माना है कि पूर्व राज्यसभा सदस्य सेंट्यूस कुजुर का इस्तीफा पार्टी को मिला है, लेकिन पूर्व मंत्री गौताम राॅय का कोई इस्तीफा नहीं मिला है। वे तो पहले से ही निलंबित चल रहे थे।