नागालैंड से बने 6 हथियार लाइसेंस रद्द, कानूनी-कार्यवाही से बचने के लिए किए सरेंडर

Daily news network Posted: 2018-04-07 09:40:49 IST Updated: 2018-04-07 10:02:53 IST
नागालैंड से बने 6 हथियार लाइसेंस रद्द, कानूनी-कार्यवाही से बचने के लिए किए सरेंडर
  • नागालैंड से फर्जी हथियार लाइसेंस बनवाने का मामला केंद्र सरकार तक पहुंचने के बाद कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए लोग अपने लाइसेंस सरेंडर कर रहे हैं।

नागालैंड से फर्जी हथियार लाइसेंस बनवाने का मामला केंद्र सरकार तक पहुंचने के बाद कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए लोग अपने लाइसेंस सरेंडर कर रहे हैं। ताजा मामला बीकानेर का है, जहां छह लोगों ने अपने हथियार लाइसेंस सरेंडर किए, जिन्हें नागालैंड प्रशासन ने र² कर दिया। बता दें कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने राजस्थान सरकार से नागालैंड से बने हथियार लाइसेंस के संबंध में रिपोर्ट मांग ली है।



 

हथियार अधिकृत डीलर को सौंपने की मिली थी इजाजत

इससे पहले बीकानेर पुलिस ने आपराधिक प्रवृत्ति के 27 लोगों की सूची नागालैंड प्रशासन को भेजी थी, जिन्होंने वहां से हथियार लाइसेंस बनवा रखे थे। इनमें से छह लोगों ने अपने हथियार लाइसेंस नागालैंड प्रशासन के समक्ष सरेंडर किए, जिन्हें रद्द कर दिया गया है। नागालैंड प्रशासन ने इन लोगों को अपने-अपने हथियार अधिकृत डीलर को सौंपने की भी इजाजत दी है। बीकानेर पुलिस की ओर से भेजी गई 27 लोगों की सूची में से 21 के हथियार लाइसेंस पूर्व में निलंबित कर दिए गए थे और 31 मार्च तक स्पष्टीकरण मांगा था। इन 21 लोगों ने नागालैंड प्रशासन के समक्ष पेश होकर अपने कागजात और पक्ष रखने के लिए समय मांगा।


 

 

दीमापुर पुलिस ने दिया 20 अप्रैल तक का समय

नागालैंड में दीमापुर के पुलिस कमिश्नर ने फिलहाल हथियार लाइसेंस रद्द नहीं कर 20 अप्रैल तक का समय दिया है। गौरतलब है कि बीकानेर में 100 से ज्यादा लोगों ने नागालैंड से हथियार लाइसेंस बनवाए थे। पुलिस ने 23 अक्टूबर, 17 को धोखे से हथियार लाइसेंस बनवाने के आरोप में नयाशहर पुलिस थाने में पांच नामजद लोगों के खिलाफ  मुकदमा दर्ज किया था। बाद में हथियार लाइसेंस बनवाने वाले 84 लोगों को नामजद कर उनकी सूची भी तैयार की थी। जांच-पड़ताल के लिए बीकानेर पुलिस की टीम तीन बार नागालैंड भी जाकर आई है।