असम: सिलचर में फिर हुई हिंसा के बाद तनाव, धारा 144 लागू

Daily news network Posted: 2018-04-14 15:15:35 IST Updated: 2018-04-14 15:50:11 IST
असम: सिलचर में फिर हुई हिंसा के बाद तनाव, धारा 144 लागू
  • दक्षिण असम के कछार जिले के मुख्यालय सिलचर में पिछले कुछ दिनों में विभिन्न क्षेत्रों जारी हिंसा की घटनाएं फिर से हुई हैं। जिससे पूरे इलाके में तनाव का माहौल है।

दक्षिण असम के कछार जिले के मुख्यालय सिलचर में पिछले कुछ दिनों में विभिन्न क्षेत्रों जारी हिंसा की घटनाएं फिर से हुई हैं। जिससे पूरे इलाके में तनाव का माहौल है।

 


 ताजा घटना में गुरुवार रात एक गिरोह के कुछ लोगों ने शेटकिपट्टी इलाके में पत्थरबाजी की। इस घटना में कुछ लोग घायल हो गए और कुछ घर भी क्षतिग्रस्त हुए हैं। इससे आसपास के इलाके में एक तनाव की स्थिति पैदा हो गई है। माधबोंड इलाके में ये अपवाह फैल गई कि पास के एक मस्जिद को बदमाशों के एक गिरोह ने ध्वस्त कर दिया है।


 इसके बाद सुरक्षा अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए, जिसके बाद उन पर नाराज भीड़ ने पत्थरबाजी की। इसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले फेंके। इस घटना में तीन से चार सुरक्षा अधिकारी और कुछ स्थानीय लोग घायल हुए हैं। इसके अलावा कुल 12 वाहन क्षतिग्रस्त हुए।


 गुरुवार रात की इस घटना के सिलसिले में 15 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्हें यहां एक अदालत में पेश किया गया और फिर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। गिरफ्तार किए गए लोग मस्कुख अहमद लस्कर (25), हैदर हुसैन लस्कर (30), नसीम अहमद लस्कर (30), रियाज उद्दीन तालुकदार (35), अब्दुल हकीम बारहुइया (23), अहमदुर रहमान लस्कर (25), अहमद हुसैन बारहुइया (26), अब्दुल्ला लस्कर (28), चंदन लस्कर (36), रुपाम चौधरी (38), नूर अहमद (24), जमाल उदिन लस्कर, नोरेंद्र दास (34) और अरबिंदो दास (38) शामिल हैं।



सूत्रों के अनुसार, पहली घटना रविवार की रात कालीबारी चार में हुई थी और लंबे समय तक चलती रही। इसमें कम से कम 10 लोग घायल हो गए और कई घरों और दुकानों को तोड़ दिया गया था। जानीगंज में सोमवार को अलग-अलग इलाकों में तीन व्यक्तियों रहीम उद्दीन (45), गुलजार हुसैन (42) और दिलोहर हुसैन (45) पर हमला किया गया था।


जिला प्रशासन ने शुक्रवार को धारा 144 लगा दिया है। इसे लेकर शुक्रवार की सुबह चार के डिप्टी कमिश्नर एस लक्ष्मणन ने एक नोटिस जारी किया था। चार के पुलिस अधीक्षक राकेश रौशन ने बताया कि हिंसा प्रभावित इलाकों की स्थिति सामान्य है और आगे की घटनाओं को रोकने के लिए सुरक्षा बढ़ा दी गई है।


 चार पुलिस ने अपने फेसबुक पेज पर और अन्य प्लेटफॉर्मों के माध्यम से नागरिकों को चेतावनी दी है कि वे झूठी समाचार या किसी भी अवांछित संदेश या सोशल मीडिया पर फोटो पोस्ट न करें। यह भी यह स्पष्ट कर दिया है कि निर्देश का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।