जूते पहनकर त्रिपुरा सुंदरी मंदिर चले गए अमित शाह!

Daily news network Posted: 2018-01-09 19:53:00 IST Updated: 2018-01-09 19:53:00 IST
जूते पहनकर त्रिपुरा सुंदरी मंदिर चले गए अमित शाह!
  • भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह सोमवार को त्रिपुरा की राजधानी अगरतला से 50 किलोमीटर दूर स्थित त्रिपुरासुंदरी मंदिर गए थे।

अगरतला।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह सोमवार को त्रिपुरा की राजधानी अगरतला से 50 किलोमीटर दूर स्थित त्रिपुरासुंदरी मंदिर गए थे। त्रिपुरासुंदरी मंदिर उदयपुर जिले में स्थित है। अमित शाह के मंदिर दौरे को लेकर विवाद हो गया है। आरोप है कि जब अमित शाह सीढिय़ों पर चढ़ रहे थे तब वह जूते पहनकर वीआईपी रूम से भी आगे चले गए थे,जो मंदिर की परंपरा के खिलाफ है। त्रिपुरा सुंदरी मंदिर 51 हिंदू शक्तिपीठों में से एक है।

 

 

 

 त्रिपुरा सुंदरी हिंदुओं के पवित्र तीर्थ स्थलों में से एक है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह कोहरे के कारण हेलीकॉप्टर से यात्रा नहीं कर सके। वे सुबह करीब 11 बजे मंदिर परिसर पहुंचे और एक घंटे बाद वहां से गए। त्रिपुरा सुंदरी मंदिर विकास समिति के चेयरमैन और सीपीएम विधायक माधाब साहा ने कहा कि उन्हें बताया गया कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जूते पहनकर सीढिय़ों पर चढ़े। अमित शाह की कड़ी आलोचना करते हुए साहा ने कहा कि उन्होंने न केवल माता त्रिपुरा सुंदरी बल्कि लोगों के विश्वास का अपमान किया है। यह मंदिर न केवल हिंदुओं के लिए परम पूजनीय है बल्कि अन्य देश के अन्य धार्मिक समुदायों के लिए भी पूजनीय है।

 

 

 

 

 भाजपा जैसी हिंदुत्व समर्थक पार्टी के वरिष्ठ नेता को लोगों की परंपराओं व मूल्यों और हिंदू धर्म का सम्मान करना चाहिए। समाचार पत्र द टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा के राज्य मुख्यालय को अमित शाह के उदयपुर दौरे के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। मंगलवार दोपहर राज्य भाजपा के मीडिया विभाग के प्रभारी विक्टर शोम ने कहा, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष त्रिपुरासुंदरी मंदिर कार में गए थे।

 

 

 

 उन्होंने वहां मां त्रिपुरा सुंदरी की पूजा अर्चना की। अगरलता से लौटने के बाद वे दिल्ली के लिए रवाना हो गए। रविवार को शोम ने कहा कि नई दिल्ली में अर्जेंट मीटिंग के कारण अमित शाह न्यूज कांफ्रेंस को संबोधिथ नहीं करेंगे। सोमवार को उन्होंने कहा, हम उनके कार्यक्रमों की डिटेल्स को ट्रैक नहीं कर सकते। वीआईपी के टूर शेड्यूल लगातार बदलते रहते हैं। बाद में शाम को विवाद पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा प्रवक्ता मृणाल कांति देब ने कहा कि अमित शाह जैसे सच्चे हिंदू को नास्तिक माक्र्सवादियों से सबक सीखने की जरूरत नहीं है।