शुरू हुआ प्रदर्शन का दौर, कई संगठनों ने जलाया पाक का झंडा

Daily news network Posted: 2019-02-16 13:00:07 IST Updated: 2019-02-16 17:29:18 IST
  • देश की सेवा में तैनात जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ के जवानों पर हुए आतंकी हमले के विरोध में जहां देशभर में विरोध प्रदर्शन का दौर शरू हो गया है

गुवाहाटी

देश की सेवा में तैनात जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ के जवानों पर हुए आतंकी हमले के विरोध में जहां देशभर में विरोध प्रदर्शन का दौर शरू हो गया है वहीं असम में भी कई दलों व संगठनों ने विरोध जताया। इस कड़ी में पूर्वोत्तर के प्रवेशद्वार गुवाहाटी में भी कई संगठनों ने कड़े शब्दों में प्रतिक्रिया व्यक्त की। इसके साथ ही सदस्यों ने पाकिस्तान तथा आतंकवादी विरोधी नारे लगाए तथा पाकिस्तान का झंडा जलाकर विरोध जताया। गुवाहाटी प्रेस क्लब के पास अंतर्राष्ट्रीय हिंदू परिषद व राष्ट्रीय बजरंगत दल के समर्थकों ने सड़क पर उतर कर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए केंद्र सरकार की तुलना अबला नारी के साथ की तथा पाकिस्तान का झंडा जलाकर विरोध जताया।

 

 

इस अवसर पर दोनों संगठनों के समर्थकों ने हिंदू परिषद व बजरंग दल जिंदाबाद, केंद्र सरकार हाय-हाय के साथ ही पाकिस्तान विरोधी नारे लगाए। इस अवसर पर राष्ट्रीय बजरंग दल के अध्यक्ष निलाभ दास ने कहा कि केंद्र सरकार की कमजोरी के चलते दिनोंदिन भारत की सेवा में तैनात सैनिक शहीद हो रहे हैं तथा पाकिस्तान व उसके गुर्गे का साहस बढ़ रहा है। केंद्र सरकार आखिर कब तक धैर्य रखेगी। सरकार को विशेष पहल करते हुए पाकिस्तान के आंतकवादियों को इसका मजा चखाना होगा, तभी जाकर सैनिकों के परिवारवालों को सुकुन मिलेगा। उनका कहना है कि कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादियों द्वारा सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले के कारण 44 जवानों का समय से पहले शहीद होना भारत के लिए शर्मनाक बात है। साथ ही गोरिया-मोरिया युवा छात्र परिषद के सदस्यों ने भी घटना का कड़ा विरोध किया वहीं पाकिस्तान का झंडा जलाकर विरोध जताया है।

 


साथ ही दूसरी ओर बूढ़ा मस्जिद कमेटी ने भी कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादियों द्वारा सीआरपीएफ के काफिले के ऊपर कायराना हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है। कमेटी का कहना है कि केंद्र सरकार आतंकवादियों के खिलाफ कठोर कदम उठाए, ताकि देश शांति, अखंडता व भाईचारा कायम रखे वहीं दूसरी ओर आसू व नेसों ने भी पुलवामा आत्मघाताी हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है।