गणतंत्र दिवस तक रोशन हो जाएगा असम, मेघालय और अरुणाचल का हर घर

Daily news network Posted: 2019-01-01 12:03:27 IST Updated: 2019-01-02 08:34:50 IST
  • सरकार ने देश के करीब 96 फीसदी परिवारों को बिजली दे दी है। अब वह उम्मीद कर रही है कि बाकी परिवारों के घरों को भी 26 जनवरी तक रोशन कर दिया जाएगा।

नई दिल्ली।

सरकार ने देश के करीब 96 फीसदी परिवारों को बिजली दे दी है। अब वह उम्मीद कर रही है कि बाकी परिवारों के घरों को भी 26 जनवरी तक रोशन कर दिया जाएगा। एक समाचार पत्र ने सरकारी अधिकारियों के हवाले से यह जानकारी दी है। बिजली मुहैया कराने के काम में प्रगति पर नजर रखने वाली आधिकारिक वेबसाइट सौभाग्य के डैशबोर्ड के मुताबिक सरकार ने 95.72 फीसदी परिवारों को बिजली मुहैया करा दी है जबकि 4.28 फीसदी (10, 68, 160 परिवारों) को बिजली कनेक्शन मिलना बाकी है। जिन राज्यों के परिवारों को बिजली कनेक्शन दिया जाना बाकी है, उनमें असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश,राजस्थान, कर्नाटक और छत्तीसगढ़ शामिल हैं।


 2.49 करोड़ परिवारों को अभी तक नहीं मिली बिजली

 देशभर में जिन 2.49 करोड़ परिवारों को बिजली नहीं मिली थी, उनमें से 2.389 करोड़ परिवारों को कनेक्शन दिया जा चुका है। हर हफ्ते औसतन 7 लाख घरों को बिजली से रोशन किया जा रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि गांवों में बिजली के लिए पहले से बनी और नई मांग के चलते बिजली का कनेक्शन पाए परिवारों की तरफ से एक साल में बिजली की खासी डिमांड निकल सकती है। जिन मकानों तक बिजली नहीं पहुंची है उनकी संख्या सबसे ज्यादा असम (5.6) और फिर राजस्थान (3.1 लाख) में है।

 


 2019 तक सभी को बिजली मुहैया कराने का प्लान

 मेघालय में बिजली कनेक्शन बांटने का काम देने के लिए जारी टेंडर पर कानूनी रस्साकशी को लेकर एक लाख मकानों को बिजली देने के काम में देरी हुई है। असम में घरों तक बिजली पहुंचाने का काम जोरशोर से चल रहा है और इसके समय पर पूरा हो जाने की उम्मीद है। सरकारी अधिकारी ने कहा कि मेघालय और असम में बिजली का काम समय पर पूरा होने की उम्मीद है। प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना यानी सौभाग्य के जरिए मार्च 2019 तक सभी को बिजली मुहैया कराने का प्लान है। इसमें नजदीकी खंबे के से घर तक तार पहुंचाने और मीटर लगाने, एलईडी बल्ब वाला सिंगल लाइट प्वाइंट और मोबाइल चार्जिंग के लिए वायरिंग करना शामिल है।

 



दूरदराज के इलाकों में ऑफ ग्रिड तरीके से पहुंचार्इ जाएगी बिजली

 सरकार ने बिजली लेने के इच्छुक सभी परिवारों को कनेक्शन देने के लिए शुरुआत में 31 मार्च 2019 की डेडलाइन तय की थी। सरकार ने बाद में कहा कि यह टारगेट वह डेडलाइन से तीन महीने पहले 31 दिसंबर 2018 तक हासिल कर लेगी। सरकारी अधिकारियों ने बताया कि कुछ इलाकों के घरों में बिजली पहुंचाने में देरी टेंडर पर कानूनी रस्साकशी असेंबली इलेक्शन और नक्सली हिंसावाले क्षेत्र में काम करने में आने वाली मुश्किलों के चलते हुई। छत्तीसगढ़ में जिन इलाकों के घरों में बिजली नहीं पहुंच पाई, वे नक्सली हिंसा से प्रभावित हैं। सरकारी अधिकारी ने कहा, राजस्थान के कुछ इलाकों में हर घर तक बिजली पहुंचाने का काम 26 जनवरी तक पूरा हो जाने की उम्मीद है। चुनाव के चलते राजस्थान में घर घर बिजली पहुंचाने के काम में देरी हुई थी। राजस्थान के जिन घरों तक बिजली अब तक नहीं पहुंच पाई है वे दूरदराज के इलाकों में हैं और हो सकता है कि वहां ऑफ ग्रिड तरीके से बिजली पहुंचाई जाए।