नए गृहमंत्री अमित शाह और रक्षामंत्री से मिले बीजेपी के कद्दावर मुख्यमंत्री, की ऐसी बड़ी मांग

Daily news network Posted: 2019-06-15 10:56:49 IST Updated: 2019-06-15 10:56:49 IST
नए गृहमंत्री अमित शाह और रक्षामंत्री से मिले बीजेपी के कद्दावर मुख्यमंत्री, की ऐसी बड़ी मांग

असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करके उनके साथ राज्य से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। शाह के साथ 15 मिनट तक चली बैठक में सोनोवाल ने उन्हें असम के मौजूदा हालात के बारे में बताया। असम में 31 जुलाई को राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) की अंतिम सूची का प्रकाशन किया जाना है। शाह के साथ बैठक के बाद सोनोवाल ने कहा कि यह मुलाकात शिष्टाचारवश की गयी और मैंने राज्य के लोगों की तरफ से उन्हें गृहमंत्री बनाये जाने पर बधाई दी और असम में कानून व्यवस्था की मौजूदा स्थिति से उन्हें अवगत कराया। समझा जाता है कि सोनोवाल ने शाह से एनआरसी के प्रकाशन के बाद राज्य में उपज सकने वाले हालात के बारे में चर्चा की। 

 

 

 

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के साथ बैठक में मुख्यमंत्री ने असम से संबंधित कुछ मुद्दों पर चर्चा की। सोनोवाल ने मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक से भी मुलाकात की। मुख्यमंत्री से शाह से मुलाकात के दौरान पुलिस के आधुनिकीकरण को लेकर एक ज्ञापन भी सौंपा। उन्होंने इस ज्ञापन में प्रधानमंत्री मोदी के स्मार्ट पुलिस की धारणा के अनुसार राज्य पुलिस के आधुनिकीकरण के लिए मदद का आह्वान किया। सोनोवाल ने कहा कि पुलिस के आधुनिकीकरण के लिए राज्य सरकार ने मैत्री असम नाम की एक योजना निर्धारित समय में लागू करने के कदम उठाये हैं। इस योजना के लिए अतिरिक्त पूंजी देने का मुख्यमंत्री ने शाह से अनुरोध किया। साथ ही असम पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज को विश्वस्तरीय पुलिस अकादमी में तब्दील करने के लिए अनुरोध किया। मुख्यमंत्री ने ज्ञापन में एनईपीओएल के लिए गुवाहाटी में एक समन्वय केंद्र स्थापित करने का भी अनुरोध किया। साथ ही भारत-बांग्लादेश सीमा सील करने का कार्य तेज करने का कदम उठाने को कहा। बातचीत के दौरान 400 विदेशी न्यायाधिकरण की स्थापना, इनमें पर्याप्त सुरक्षा का इंतजाम, आईटी आधारित ईएफटी परियोजनाओं पर चर्चा की। मुख्यमंत्री सोनोवाल ने केेंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर आशा जतायी कि उनके नेतृत्व में देश की रक्षा एक नये स्तर पर पहुंचेगी।

 


 

मुख्यमंत्री ने राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहतर होने के चलते अनेक कार्यक्रम आयोजित किये जाने की बात कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि उग्रवादियों पर अंकुश लगाने के लिए सेना के जवान लगे हैं। पर अब भी राज्य में सेना के लिए कोई प्रशिक्षण संस्थान नहीं है। उन्होंने राष्ट्रीय स्तर का एक प्रशिक्षण संस्थान स्थापित किये जाने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि इस तरह का संस्थान स्थापित होने से पूर्वोत्तर के युवा सेना में शामिल होने के लिए अधिक उत्साहित होंगे। मुख्यमंत्री ने आज केंद्रीय पंचायतीराज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से भी मुलाकात कर उनसे भी सहयोग की कामना की। राज्यपाल प्रो. जगदीश मुखी ने भी आज केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात कर उन्हें असम व मिजोरम के कानून व्यवस्था की स्थिति की जानकारी ली।