रिपुन बोरा का आरोप, बजट में असम को मिले केवल झूठे वादे

Daily news network Posted: 2018-03-11 11:24:08 IST Updated: 2018-03-11 11:24:08 IST
रिपुन बोरा का आरोप, बजट में असम को मिले केवल झूठे वादे

गुवाहाटी।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा ने आम बजट को असम के लिए झूठे वादों से भरा बताते हुए केंद्र से राज्य को दिए जाने वाले कोष में भारी कटौती का आरोप लगाया है। नई दिल्ली में पत्रकारों के सामने उन्होंने राज्य सरकार के वित्त मंत्री हिमंता विश्व सरमा की 18 महत्वकांक्षी योजनाओं का हवाला देते हुए कहा कि इनमें से किसी का क्रियान्वयन नहीं किया गया।

 

 

 

 


बोरा के मुताबिक स्वामी विवेकानंद असम युवा सबलीकरण योजना में एक लाख युवाओं को उद्योग वाणिज्य से जोडऩे आदि के लिए तीन सौ करोड़ रुपए, कनकलता महिला सबलीकरण के नाम पर 250 करोड़, मध्यान्ह भोजन योजना में 500 करोड़, मूल्य स्थिरकरण कोष में पचास करोड़, 31 विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों के लिए 150 करोड़, नगर विकास योजना में 100 करोड़, पुल पक्कीकरण योजना में 150 करोड़, सभी के लिए आवास (नगर) योजना में 100 करोड़ और दीनदयाल उपाध्याय दिव्यांग सहायता योजना में 100 करोड़ का आवंटन किया बताया गया है। इनमें से एक भी योजना का क्रियान्वयन नहीं हुआ।

 

 

 

 

 


उन्होंने कहा कि इसी तरह पांच साल में हर गांव पंचायत के माध्यम से गांवों को विकसित करने के लिए घोषित 30 हजार करोड़ रुपए में से अभी तक एक रुपया भी खर्च नहीं हुआ है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मुताबिक यही हाल स्थानीय प्रजाति की मछलियों के लिए बैंक, उज्ज्वला के लिए वित्तीय व्यवस्था, मूगा मिशन, बिना ब्याज के फसल ऋण, किसान पत्र  इस्तेमाल करने वाले किसानों के लिए वित्तीय मदद और चाय बागान में गर्भवती कर्मियों व स्थायी कर्मियों के लिए मजदूरी योजना आदि के भी हैं। उनके मुताबिक एक तरफ राज्य को केंद्रीय मदद में जबर्दस्त कटौती हुई है, दूसरी तरफ जीएसटी लागू होने के बाद कर संग्रह में बहुत बड़ी कमी आई है। आंकड़ों की जुबानी उन्होंने बताया कि साल 2015-16 व 2016-17 के दौरान जीएसटी के पहले राज्य में क्रमश: 10 हजार 726 करोड़ और 12 हजार 180 करोड़ रुपए का कर संग्रह हुआ था। इस अवधि में कुल 21.60 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी।