राम माधव के खिलाफ एक वेबसाइट ने लिखी फर्जी खबर, FIR दर्ज

Daily news network Posted: 2018-02-12 09:48:29 IST Updated: 2018-02-12 09:48:29 IST
राम माधव के खिलाफ एक वेबसाइट ने लिखी फर्जी खबर, FIR दर्ज
  • बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्वोत्तर मामलों के प्रभारी राम माधव ने अपने बारे में फर्जी प्रकाशित करने वाली एक वेबसाइट के खिलाफ मामला दर्ज करवाया

दीमापुर।

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्वोत्तर मामलों के प्रभारी राम माधव ने अपने बारे में फर्जी प्रकाशित करने वाली एक वेबसाइट के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है। भारतीय जनता पार्टी की नागालैंड इकाई की ओर से दीमापुर के पूर्वी पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज करवाई गई है।

 


एक वेबसाइट ने एक लेख में 10 फरवरी को दीमापुर आए राम माधव के बारे में आपत्तिजनक दावे किए थे। हालांकि राम माधव की ओर से कानूनी कार्रवाई किए जाने के बाद ये वेबसाइट ही बंद हो गई है। यही नहीं वेबसाइट का फेसबुक पेज भी गायब हो गया है। बीजेपी ने इस बारे में दीमापुर के अलावा कोहिमा और दिल्ली में भी मामले दर्ज करवाने की बात कही है।

 

 

 


वहीं असम के मंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने एक ट्वीट कर कहा है कि हमने ये झूठ बोलने वालों को अपने दावे साबित करने की चुनौती दी है। इसी बीच हम साइबर अपराध विभाग भी जा रहे हैं, जिन लोगों ने ये अफवाह फैलाई है हम उन सब पर मुकदमे करेंगे। अपनी शिकायत में बीजेपी ने कहा है कि कथित समाचार पूर्ण रूप से फर्जी है और ये हमारे राष्ट्रीय महासचिव राम माधव का चरित्र हनन करके 27 फरवरी को होने वाले चुनावों के लिए हमारे कामयाब चुनावी प्रयासों को चोट पहुंचाने के लिए लिखी गई है।

 

 


बीजेपी ने अपनी शिकायत में कहा है कि राम माधव दस फरवरी को सिर्फ तीन घंटों के लिए दीमापुर आए थे और यहां पार्टी नेताओं की बैठक करके लौट गए थे। जैसा दावा किया जा रहा है ऐसी कोई घटना नहीं हुई है। कथित खबर में नागा संगठन एनएसीएन के पास राम माधव का एक वीडियो होने का दावा किया गया था और कहा गया था कि एनएससीएन भाजपा पर 27 फरवरी को होने वाले चुनाव रद्द करने का दबाव बना रही है।