नागालैंड में की गर्इ बत्कारियाें के लिए सजा-ए-मौत की मांग

Daily news network Posted: 2018-04-17 16:12:21 IST Updated: 2018-04-17 18:46:38 IST
नागालैंड में की गर्इ बत्कारियाें के लिए सजा-ए-मौत की मांग
  • अरुणाचल में प्रदेश के बाद अब नागालैंड मेंं भी नाबालिगों के साथ बलात्कार के मामले में अपराधियों के लिए मौत की सजा की मांग की जा रही है।

कोहिमा।

अरुणाचल में प्रदेश के बाद अब नागालैंड मेंं भी नाबालिगों के साथ बलात्कार के मामले में अपराधियों के लिए मौत की सजा की मांग की जा रही है। नागालैंड के राज्यपाल पीबी आचार्या ने सोमवार को कहा कि उन्हें महिला उद्यमियों के संघ से एक याचिका मिली है, जिसमें नागालैंड के कानून में संशाेधन करके नाबालिगों के साथ बलात्कार के दोषियों के लिए फांसी की सजा की मांग की गर्इ है।

 

 


एक प्रेस रिलीज में राज्यपाल ने बताया कि याचिका का समर्थन करते हुए उन्होंने इसे मुख्यमंत्री को भेज दिया है ताकि इस मामले में आवश्यसक कानून बनाया जा सके। लेटर में राज्यपाल ने कहा है कि एक लड़की की सुरक्षा की जिम्मेदारी हम सबकी हाेती है। इस जिम्मेदारी के लिए कर्इ तरीके हैं। अपराधियों को सजा देना इसमें सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है।


 

 

उन्होंने आगे कहा कि भारत की महिला उद्यमियों के संघ ने याचिका दायर कर छह महीने के भीतर बाल रेप के आपराधियों को फांसी आैर उम्रकैद जैसी सजा की मांग की है। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि इस याचिका को समाज को व्यापक समर्थन मिला है। इसके अलावा एक महीने में 15,000 से ज्यादा लोगों ने इस पर हस्ताक्षर कर चुके हैं आैर हर हफ्ते हजारों लोग इस पर हस्ताक्षर कर रहे हैं। 15 से ज्यादा महिला संगठन इस याचिका के समर्थन में आगे आ चुके हैं। दिनों दिन लोगों का समर्थन बढ़ता जा रहा है।

 

 


 

 बता दें कि राज्यपाल ने सीआेडब्ल्यूई के चेयर पर्सन उमा घुर्का से मुलाकात की आैर इस मसले पर उनसे बात चीत की। इसके बाद राज्यपाल ने घूर्का से अपने आॅफिस में लेटर भेजने के लिए कहा। गौरतलब है कि इससे पहले राजस्थान, मध्य प्रदेश, हरियाणा आैर अरुणाचल प्रदेश में 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चे के साथ रेप के मामले में दोषी को मौत की सजा का प्रवधान कर दिया है।