कमर उज जमां को लेकर उमर अब्दुल्ला ने किया चौंकाने वाला खुलासा

Daily news network Posted: 2018-04-11 14:46:29 IST Updated: 2018-06-26 14:48:38 IST
कमर उज जमां को लेकर उमर अब्दुल्ला ने किया चौंकाने वाला खुलासा
  • जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने असम के कमर उज जमां को लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया है। बताया जा रहा है कि कमर उज जमां आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में भर्ती हो गया है।

गुवाहाटी

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने असम के कमर उज जमां को लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया है। बताया जा रहा है कि कमर उज जमां आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में भर्ती हो गया है। उमर अब्दुल्ला ने बताया है कि हिजबुल मुजाहिदीन में कथित रूप से भर्ती हुआ असम का कमर उज जमां जम्मू कश्मीर में मौजूद है। उमर अब्दुल्ला ने बताया कि उनकी सिक्योरिटी ने कमर की राज्य में मौजूदगी की जानकारी दी है।

 


उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, अंग्रेजी में एम.ए.करने वाला कथित रूप से आतंकी बनने के लिए असम से आया था। कुछ दिन पहले मेरी सुरक्षा में तैनात लोगों ने उसकी श्रीनगर के आसपास मौजूदगी के बारे में मुझे बताया था। असम पुलिस के एडीजीपी(एसबी) पल्लब भट्टाचार्य पहले ही बता चुके हैं कि असम पुलिस लगातार जम्मू कश्मीर पुलिस के संपर्क में है और कमर के हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल होने कीपुष्टि करने में लगी है। आपको बता दें कि असम पुलिस पहले ही कमेर की जम्मू कश्मीर क्षेत्र में मौजूदगी की पुष्टि कर चुकी है।




असम पुलिस जम्मू कश्मीर पुलिस की ओर से फाइनल कन्फर्मेशन कॉल का इंतजार कर रही है। आपको बता दें कि कश्मीर में असम के एक युवक की तस्वीर वायरल हुई थी, जिसमें वह एके-47 राइफल लिए नजर आ रहा है। तस्वीर के वायरल होने के बाद बहस शुरु हो गई कि कश्मीर के बाहर के युवा भी आतंकवादी संगठनों में भर्ती हो रहे हैं। कमर उज जमां असम के होजई जिले के जमुनामुख का रहने वाला है। उसके परिवार ने विभिन्न मीडिया रिपोर्टों के जरिए पहचान की। कमर अमरीका से लौटने के बाद कुछ साल पहले जम्मू कश्मीर गया था। वह पढ़ाई के लिए अमरीका गया था। 




कमर ने अपने परिवार को बताया कि उसने कश्मीर घाटी में कपड़ों का व्यापार शुरु किया है। परिवार ने बताया कि पिछले साल जुलाई में ही उनका कमर से संपर्क टूट गया था। तब से वे उसकी तलाश कर रहे थे। परिवार ने असम पुलिस से भी संपर्क किया था।

 

 



पल्लब भट्टाचार्य ने कहा कि सेंट्रल एजेंसी से इंटेलिजेंस मिलने के बाद हमने जम्मू कश्मीर पुलिस से संपर्क किया। उधर जम्मू कश्मीर पुलिस ने इस मामले पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। सूत्रों का कहना है कि वे मामले की जांच कर रहे हैं।