भाजपा का दावा, 10 साल में एक भी बांग्लादेशी घुसपैठिया भारत नहीं आया

Daily news network Posted: 2019-01-11 12:43:31 IST Updated: 2019-01-11 16:46:21 IST

गुवाहाटी।

2014 के आम चुनावों में और प्रदेश के विधानसभा चुनावों(2016) में अवैध घुसपैठ को एक बड़ा चुनावी मुद्दा बनाने वाली सत्तारुढ़ भारतीय जनता पार्टी ने गुरुवार को दावा किया कि पिछले 10 साल में एक भी बांग्लादेशी नागरिक अवैध रूप से भारत नहीं आया है।

 

 


 पार्टी ने यह भी दावा किया कि विवादित नागरिकता (संशोधन) बिल 2019 देश में एक भी विदेशी नहीं लाएगा। भाजपा प्रवक्ता स्वपनिल बरुआ ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा, इस वक्त कोई घुसपैठ नहीं हो रही। अवैध प्रवासी पहले आते थे। मेरा मानना है कि पिछले 10 सालों में बांग्लादेश से कोई घुसपैठ नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि बांग्लादेशी अब खाड़ी क्षेत्र या यूरोप में माइग्रेट करना पसंद करते हैं क्योंकि वे भारत के मुकाबले वहां ज्यादा कमा सकते हैं। यूरोप, गल्फ या दक्षिण पूर्वी एशिया में उन्हें प्रतिदिन अधिकतम वेज करीब 3 हजार रुपए मिलता है। भारत में वे एक दिन में अधिकतम 1 हजार रुपए कमा सकते हैं, इसलिए वे यहां क्यों आएंगे? उनके पास यहां आने की कोई आर्थिक वजह नहीं है।

 

 

 


 बरुआ ने कहा कि असम समझौते के क्लॉज 6 को लागू करने के लिए केन्द्र ने जो उच्च स्तरीय समिति गठित की है उसकी राज्य के भविष्य और मूल निवासियों के संवैधानिक और कानूनी अधिकारों की रक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका है। भाजपा के एक अन्य प्रवक्ता मोमिनुल अवाल ने कहा, अगर नागरिकता संशोधन विधेयक पारित होता है तो इससे कोई बांग्लादेशी भारत नहीं आएगा। नए लोगों को नागरिकता देने की कोई गुंजाइश या प्रावधान नहीं है। यह केवल उन लोगों के लिए है जो पहले से यहां रह रहे हैं। केवल उन्हीं लोगों के पास आवेदन करने का मौका होगा और संबंधित जिलाधिकारी उनके आवेदनों का सत्यापन करेंगे।

 

 


 अवाल ने कृषक मुक्ति संग्राम समिति के नेता अखिल गोगोई पर आरोप लगाया कि वे बिल के खिलाफ जो आंदोलन चला रहे हैं उसका मकसद बांग्लादेश से आने वाले अवैघ मुस्लिम घुसपैठियों की मदद करना है। भाजपा के अन्य प्रवक्ता बिजॉन महाजन ने कहा कि असम समझौते का क्लॉज 6 असमिया लोगों की विरासत और सांस्कृतिक, सामाजिक व भाषाई पहचान के संवैधानिक, प्रशासनिक और विधायी रक्षा पर जोर देता है।