बिहारी छात्रों को मिजोरम सरकार की तरफ से मिला सुरक्षा का भरोसा

Daily news network Posted: 2018-04-07 09:43:40 IST Updated: 2018-04-07 09:43:40 IST
बिहारी छात्रों को मिजोरम सरकार की तरफ से मिला सुरक्षा का भरोसा
  • मिजोरम की सरकार ने एनआईटी, मिजोरम में पढ़ रहे बिहार के छात्रों की सुरक्षा का भरोसा दिया है।

आईजोल

मिजोरम की सरकार ने एनआईटी, मिजोरम में पढ़ रहे बिहार के छात्रों की सुरक्षा का भरोसा दिया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मिजोरम में पढ़ रहे बिहार के छात्रों की समस्याओं की जानकारी मिलने के बाद अधिकारियों को तत्काल मिजोरम के अधिकारियों के साथ संपर्क करने का आदेश दिया।

 

 


इसी के बाद गृह विभाग के प्रधान सचिव आमिर सुबहानी मे मिजोरम के गृह सचिव, एनआईटी के निदेशक और केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय के अधिकारियों से बात की। केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने एक अधिकारी को तत्काल मिजोरम के लिए रवाना किया है। वे पीडि़त छात्रों की समस्याओं को सुन कर उसका समाधान करेंगे। इस बीच बिहार के डीजीपी केएस द्विवेदी ने भी फोन पर बात कर हालात की जानकारी ली।

 


 

कॉलेज में छात्र की हुई थी मौत

गौरतलब है कि पिछले 31 मार्च को छात्र देवशरण कुमार की गुवाहाटी अस्पताल में मौत हो गई। छात्रों का आरोप है कि देवशरण की मौत हॉस्टल में दूषित पानी और भोजन के कारण हुई है। देवशरम की मौत के बाद छात्रों ने भूख हड़ताल कर दी थी। छात्रों ने मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावेड़कर को पत्र लिखकर पूरे मामले की जांच कर आरोपियों के खिलाफ  कार्रवाई की मांग की थी। छात्रों का हंगामा इस कदर बढ़ गया है कि हॉस्टल के वार्डन को हटाना पड़ा, लेकिन छात्रों का आरोप है कि नए वार्डन ने आते के साथ ही छात्रों को धमकाना शुरू कर दिया है।

 


 

फूड प्वाइजनिंग की वजह से हुई थी छात्र की मौत

 

बिहार के खगडयि़ा जिले के बेलदौर प्रखंड के पचौत गांव का मेधावी युवक देवशरण कुमार एनआईटी मिजोरम में बीटेक सेकेंड समेस्टर का छात्र था। इसकी मौत फूड प्वाइजनिंग की वजह से शनिवार दस बजे दिन में मेडिकल कॉलेज गुवाहाटी में हो गई। पांच भाइयों और चार बहनों में एक भाई और तीन बहन से छोटा देवशरण अत्यंत मेघावी छात्र था। पिता राम विलास राम प्रजेक्ट कन्या उच्च विद्यालय में अंग्रेजी और इकोनॉमिक्स के सहायक शिक्षक (अवैतनिक) के पद पर कार्यरत हैं। माता सुदामा देवी एक गृहणी हैं। इसका घर बेलदौर थाना क्षेत्र के पचौत पंचायत के वार्ड संख्या दस पचौत रविदास टोला में आता है।

 

 

पिता का आरोप

मृतक के पिता ने आरोप लगाया है कि कॉलेज में खानपान की गड़बड़ी के कारण इसकी तबियत जब बिगडऩे लगी तो कॉलेज प्रशासन ने इसे अकेले ही हवाई जहाज से गुवहाटी मेडिकल कॉलेज भेज दिया और फिर बाद  में अभिभावकों को सूचित किया, जहां उसकी मौत हो गई। इधर, मृतक के घर में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है और ग्रामीण इस घटना से हतप्रभ हैं।