मुसलमानों ने वैदिक मंत्रों के साथ किया कुछ ऐसा जिसने पेश की मिसाल, प्रशासन के भी उड़ा दिए होश

Daily news network Posted: 2019-08-26 09:28:44 IST Updated: 2019-08-26 09:39:31 IST
मुसलमानों ने वैदिक मंत्रों के साथ किया कुछ ऐसा जिसने पेश की मिसाल, प्रशासन के भी उड़ा दिए होश
  • असम के कामरूप जिले में एक बेहद ही अलग नजारा देखने को मिला।

रंगिया

असम के कामरूप जिले में एक बेहद ही अलग नजारा देखने को मिला। मुस्लिम ग्रामीणों के एक समूह ने एक हिंदू व्यक्ति का अंतिम संस्कार किया जो अपने परिवार के साथ 25 सालों से अधिक समय तक एक मुस्लिम के घर पर ठहरे हुए थे। इस बात की जानकारी अधिकारियों ने दी है। दरअसल जिले में रांगिया के खांडिकर गांव में राजकुमार गौड़ (65) सद्दाम हुसैन के घर में रहते थे।

 


 

 गांव के निवासी शुकुर अली ने बताया कि गौड़ की रविवार को मृत्यु हो गई। जिसके बाद हुसैन और उनके दोस्तों ने हिंदू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार के लिए जरूरी वस्तुएं खरीदने के लिए आपस में पैसे इकट्ठे किये और एक पुरोहित का इंतजाम किया।

 

 

 

मैदुल इस्लाम ने कहा कि वे सभी शव को लेकर शमशान घाट पहुंचे और उन्होंने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच गौड़ का दाह संस्कार किया। उन्होेंने बताया कि खांडिकर गांव के लोगों ने उससे गौड़ के अंतिम संस्कार के लिए जरूरी वस्तुएं बताने को कहा था।

 


 आधिकारिक सूत्रों के अनुसार प्रशासन इस अंतिम संस्कार का हिस्सा नहीं था लेकिन उसे पूरी घटना की जानकारी थी। हुसैन ने बताया कि गौड़ को अपने पिता के निधन के बाद रेलवे क्वार्टर खाली करना पड़ा। वह उसी क्वार्टर में रह रहे थे। उनके पिता उत्तर प्रदेश से असम आये थे। उन्होंने कहा, मैंने अपने परिसर में राजकुमार के लिए एक घर बनवा दिया था ताकि वह अपने परिवार के साथ रह सकें।