नहीं थम रहा अफवाहों का दौर, जागरूक लोगों ने बचार्इ बच्चे की जान नहीं तो हाेता बड़ा हादसा

Daily news network Posted: 2018-07-03 16:06:25 IST Updated: 2018-07-03 16:06:25 IST
नहीं थम रहा अफवाहों का दौर,  जागरूक लोगों ने बचार्इ बच्चे की जान नहीं तो हाेता बड़ा हादसा
  • असम के कार्बी अग्लोंग के डकमका कांड में शामिल होने के आरोप में करीब पचास लोगों की गिरफ्तारी के बाद भी कुछ लोगों में कानून का डर नहीं रह गया है। राज्य में अब भी एक के बाद एक एेसी घटनाएं हाे रही है।

गुवाहाटी।

असम के कार्बी अग्लोंग के डकमका कांड में शामिल होने के आरोप में करीब पचास लोगों की गिरफ्तारी के बाद भी कुछ लोगों में कानून का डर नहीं रह गया है। राज्य में अब भी एक के बाद एक एेसी घटनाएं हाे रही है। एेसा ही एक मामला दलगांव थाने के दैपाम पुलिस चौकी के अंतर्गत दैपाम गांव में देखने काे मिला। गांव वालों ने महज एक शक आैर अफवाह के आधार पर एक किशोर की जमकर पिटार्इ की आैर जान तक लेने को आमदा हो गए। लेकिन कुछ लोगों ने इस बात की जानकारी दैपाम पुलिस को दे दी आैर मौके पर पहुंची पुलिस ने बच्चे की जान बचार्इ।

 

 


 जानकारी के मुताबिक रविवार को दोपहर बाद आेरांग राष्ट्रीय पार्क के पास बेजीमारी गांव का एक कथित रूप से मानसिक रूप से बीमार 17 साल का नाबालिक टहलते हुए दैपाम गांव पहुंच गया आैर इधर उधर घूमने लगा। वह किसी से बिना मतलब बात करता तो कभी हंसने लगता।  एेसे ही शाम हो गर्इ आैर किशोर एक गांव वाले के घर में घुस गया। इस तरह से घर में घुसते हुए गांव के एक व्यक्ति ने जब लड़के को देखा तो पूरे गांव में बच्चा चोर होने की अफवाह फैल गर्इ आैर देखते ही देखते सैकड़ाें लोग इकट्ठा हो गए। इकटठा लोगों ने लकड़े को थप्पड़, लाठी आैर घूसों से मारना शुरू कर दिया। इसी भीड़ से कुछ जागरूक लोगों ने पुलिस को इसकी जानकारी दी। पुलिस ने तत्काल मौके पर पहुंच कर लड़के का जान बचार्इ।

 

 


 इस घटना को लेकर जिले के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सत्यजीत नाथ ने सोमवार को बताया कि पुलिस ने पूरे जिले में अफवाहों के खिलाफ जागरूकता अभियान चलाया है। इसी को लेकर पुलिस को समय से सूचना मिल गर्इ आैर बड़ा हादसा होने से बच गया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कानून तोड़ने वालों के खिलाफ पुलिस सख्त कार्यवार्इ करेगी।

 

 

 


किसी को भी कानून अपने हाथ में नहीं लेने दिया जाएगा। जो कुछ भी हो, लेकिन घटना के 24 घंटे बाद भी पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया है अौर न ही किसी आरोपी की पहचान की गर्इ है। इतना ही नहीं अभी तक आरोपी के गिरफतारी की प्रक्रिया भी शुरू नहीं की गर्इ है।