केंद्र सरकार का जवाबः थाईलैंड से कठिन है यह अभियान

Daily news network Posted: 2019-01-05 13:24:48 IST Updated: 2019-01-05 13:24:48 IST
केंद्र सरकार का जवाबः थाईलैंड से कठिन है यह अभियान

मेघालय खान हादसे को लेकर केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एक तस्वीर दिखाई, जिसमें मेघालय की अवैध कोयला खदान में फंसे खनिकों को बचाने के लिए किए जा रहे बचाव अभियान की झलक थी। सरकार ने अदालत को बताया कि यह कार्य थाईलैंड सरकार द्वारा पिछले साल किए गए बचाव अभियान से काफी अलग है।



जस्टिस एके सीकरी और एस अब्दुल नजीर की बेंच के सामने पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि यह खदान 350 गहरी है और उनके पास इसका कोई ब्लूप्रिंट नहीं है। उन्हें नहीं पता कि लोग इस खदान में कहां फंसे हुए हैं और उनका पता लगा पाना काफी मुश्किल है। मेहता और मेघालय सरकार के महाधिवक्ता अमित कुमार ने कहा कि राष्ट्रीय और राज्य आपदा मोचन बल, नौसेना और कोल इंडिया के विशेषज्ञों अभियान में शामिल हैं और वह खनिकों को बाहर निकालने का हरसंभव प्रयास कर रहे हैं। पिछले साल 14 दिसंबर से 15 खनिक खदान में फंसे हुए हैं। 

 



थाईलैंड अभियान का जिक्र करते हुए सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि उस मामले के लिहाज से यह काफी अलग है। हमारे पास खदान के अंदर के ढांचे का स्केच नहीं हैं, क्योंकि यह अवैध है। इसी वजह से बचाव कार्य में बाधा पहुंच रही है। थाईलैंड अभियान की बात करें तो वहां बच्चों की फुटबॉल टीम के साथ ही कोच भी फंस गए थे। सभी को 18 दिनों तक चले अभियान के बाद सुरक्षित बाहर निकाला गया था।

 



तुषार मेहता ने कहा, थाईलैंड मामले में गुफा का ब्लूप्रिंट था और पानी साफ था, लेकिन खदान के अंदर का पानी गंदा है और गोताखोर एक निश्चित गहराई के बाद आगे नहीं जा पा रहे हैं। हमने शक्तिशाली वाटर पंप लगाए हैं, जो प्रति मिनट 1800 लीटर पानी बाहर निकाल रहे हैं, लेकिन पानी का स्तर कम नहीं हो रहा है, क्योंकि खदान पास की नदी से जुड़ा हुआ है और खदान नदी से 10 फीट नीचे स्थित है। उन्होंने आगे कहा कि अधिकारी खदान में होने वाले पानी के रिसाव को रोक नहीं पा रहे हैं क्योंकि उन्हें नहीं मालूम कि कहां से पानी का खदान में आना जारी है।

 



इससे पहले उच्चतम न्यायलय ने इस खदान में फंसे 15 खनिकों को बचाने के काम पर असंतोष व्यक्त करते हुए कहा था कि उन्हें बचाने के लिए शीघ्र, तत्काल एवं प्रभावी अभियान चलाने की जरूरत है क्योंकि यह जिंदगी और मौत का सवाल है। खदान फंसे लोगों के लिए प्रत्येक मिनट कीमती है।