चीन सीमा के पास भारतीय वायु सेना का युद्धाभ्यास, कहीं युद्ध की तैयारी तो नहीं?

Daily news network Posted: 2018-04-18 16:13:04 IST Updated: 2018-04-18 18:10:12 IST
चीन सीमा के पास भारतीय वायु सेना का युद्धाभ्यास, कहीं युद्ध की तैयारी तो नहीं?
  • भारत आैर चीन ने खुले तौर पर एक दूसरे से कुछ नहीं कहा है आैर न ही एक-दूसरे की हरकतों पर किसी तरह की प्रतिक्रिया दी है। लेकिन दोनों देशों के हालिया गतिविधियों से ये सवाल जरूर पैदा हाे रहे हैं,

नर्इ दिल्ली।

भारत आैर चीन ने खुले तौर पर एक दूसरे से कुछ नहीं कहा है आैर न ही एक-दूसरे की हरकतों पर किसी तरह की प्रतिक्रिया दी है। लेकिन दोनों देशों के हालिया गतिविधियों से ये सवाल जरूर पैदा हाे रहे हैं,'चीन सीमा के पास भारतीय सेना का युद्धाभ्यास कहीं किसी युद्ध की तैयारी तो नहीं।'

 

 



देश भर में चलाए जा रहे अपने लड़ाकू अभ्यास के तहत भारतीय सेना ने जहां उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में अपनी अवसंरचना की रणनीतिक तैयारी का आंकलन करने के लिए अभ्यास किया। तो वहीं दूसरी आेर बीजिंग से जारी रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने मध्यम आैर लंबी दूरी के नर्इ मिसाइलाें को सक्रिय कर दिया है।


 

ये मिसाइलें मध्यम आैर बड़े युद्धक पाेतों पर सटीक हमला करने में सक्षम हैं। हालांकि भारतीय वायुसेना के अधिकारियों ने मीडिया से दूरी बना रखी है। लेकिन सूत्रों ने बताया कि शक्ति नामक यह अभ्यास भारत-चीन सीमा से 230 किमी दूर चिन्यालीसौड़ शहर में दो बजकर तीस मिनट पर शुरू हुआ है।

 


 मालवाहक हेलीकॉप्टर से एयरफोर्स के जवानों ने किया अभ्यास


इस दौरान हर्षिल हैलीपैड से सेना के जवानों की एक टुकड़ी को मालवाहक हेलीकॉप्टर से चिन्यालीसौड़ हवाई पट्टी पर उतारा भी गया। इसके बाद सामरिक महत्व वाले एयरबेस से एएन-32 विमान ने मेरठ और जौलीग्रांट एयरबेस पर सेना के जवानों को उतारा। वायुसेना के अधिकारी ऑपरेशन 'गगन शक्ति' सैन्य अभ्यास को सफल बनाने के लिए काफी दिनों से चिन्यालीसौड़ हवाई पट्टी पर डेरा डाले हुए हैं ।


 


एेसा बताया जा रहा  है कि गगन शक्ति कर्इ दशकों से भारतीय सेना का सबसे बड़ा अभ्यास हैं। चीन आैर भारत सहित सभी संभवित सुरक्षा चुनौतियोंं से निपटने के लिए वायु सेना अभ्यास कर रही है। बता दें कि ये अभ्यास आठ अप्रैल से शुरू हुआ है आैर 22 अप्रैल तक चलेगा।