कुछ इस ढंग से असम में मनाया जाता है माघ बिहू

Daily news network Posted: 2019-01-14 12:59:53 IST Updated: 2019-01-14 13:19:48 IST
कुछ इस ढंग से असम में मनाया जाता है माघ बिहू
  • संपूर्ण राज्य के साथ ही विश्वनाथ जिले के विश्वनाथ एवं गोहपुर महकमा में भी माघ-बिहु मनाने की तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं। जगह-जगह गांव वाले एक साथ मिलकर 'उरूका' के दिन पारंपरिक ढंग से सामूहिक खाना खाने के लिए 'भेला घर '.....

गुवाहाटी।

असम में संपूर्ण राज्य के साथ ही विश्वनाथ जिले के विश्वनाथ एवं गोहपुर महकमा में भी माघ-बिहु मनाने की तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं। जगह-जगह गांव वाले एक साथ मिलकर 'उरुका' के दिन पारंपरिक ढंग से सामूहिक खाना खाने के लिए 'भेला घर ' बनाने में जुटे हुए हैं। उधर घरों में महिलाएं हर किस्म के जलपान, पीठा, लारू (लड्डू) आदि बना रही हैं।


 


जिले के विश्वनाथ चारिआली,बरगांव, बेदेटी, बिहाली, पाभै आदि स्थानों के अलावा गोहपुर, हेलेम, सतिया, जामुगुडी़हाट आदि में भी माघ बिहू की तैयारियां जोरों पर चलने की खबर है। माघ बिहू के साथ-साथ यहां रहने वाले हिंदीभाषी लोग 'मकर संक्रांति' मनाने की तैयारियां भी कर रहे हैं। ज्ञात हो कि मकर संक्रांति के दिन महकमा के इतिहास प्रसिद्ध विश्वनाथघाट में सैकड़ो श्रद्धालु इकट्ठा होकर सामूहिक स्नान करते हैं एंव देवी-देवताओं से आशीष मांगते हैं।

 


 

 उधर, गोहपुर महकमा के बरानीपथार गांव के लोगों ने एक एेसा 'भेला घर ' बनाया है जो देखने में ज्योतिप्रसाद अग्रवाल द्वारा बनाई गई पहली असमिया फिल्म 'जयमती ' के सेट 'चित्रलेखा मुविटोन ' जैसा है। ज्ञात हो कि पास के ही भोलागुड़ी चाय बागान में यह फिल्म सन् 1935 में फिल्माई गई थी। इस भेलाघर में उस फिल्म के कई दृश्य के हू-ब-हू दृश्य बनाए गए हैं, जो लोगों को बरबस अपनी ओर खींच रहे हैं। गांववालों का कहना है कि इसी भेलाघर  में अागामी 17 जनवरी के दिन ' शिल्पी दिवस ' भी मनाया जाएगा।