लिम्बु-तमाग कमेटी ने की आरक्षण की मांग, सरकार को दी चेतावनी

Daily news network Posted: 2018-04-15 11:09:26 IST Updated: 2018-04-15 13:06:50 IST
लिम्बु-तमाग कमेटी ने की आरक्षण की मांग, सरकार को दी चेतावनी
  • लिम्बु तमाग कमेटी ने शनिवार को बाधा बर्मन कमीशन की प्रतिलिपियों को जलाकर विरोध प्रदर्शन किया।

गंगटोक।

लिम्बु तमाग कमेटी ने शनिवार को बाधा बर्मन कमीशन की प्रतिलिपियों को जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। कमेटी  का मानना है कि उक्त कमीशन के चलते लिम्बु तमाग जनजाति समुदायों को आरक्षण नहीं मिल पा रहा है। कमेटी के अध्यक्ष येहाग चोंग ने बताया कि पिछले 13 साल से जनजाति के सूची में शामिल होने के बाद सिक्किम विधानसभा में सीट आरक्षण नहीं हो पाई है, जबकि सिक्किम को प्राप्त संविधान के विशेषाधिकार 371 (एफ) के उपधारा एफ  (के) तहत जाति के आधार पर सीट आरक्षण संभव है। 


 


कमेटी का आरोप है कि राज्य सरकार की राजनैतिक इच्छा शक्ति की कमी के चलते उन्हें अभी तक आरक्षण नहीं मिल पाया है। चोंग ने बताया कि बर्मन कमीशन की सिफारिश हवाले देते हुए राज्य सरकार ने केंद्र में 11 विभिन्न जातियों को अनुसूचित जनजाति के सूची में शामिल करने की मांग रखी है। इसी तरह विधानसभा में 40 सीटें करने की भी मांग रखी गई थी। उसके बाद ही लिम्बु-तमाग को 5 सीटें आरक्षण करने का फर्मुला राज्य सरकार ने केंद्र सरकार दिया था। 


 


चोंन ने कहा कि मुख्यमंत्री पवन चामलिंग सीट आरक्षण मामले में लिम्बु-तमाग समुदाय के प्रति इमानदार नहीं है। कमेटी का कहना है कि मुख्यमंत्री ने 2019 से पहले विधानसभा में सीट आरक्षित नहीं होने पर राजनीति से सन्यास लेने की भी बात कही थी। अब कमेटी ने मुख्यमंत्री को 31 दिसंबर 2018 तक का मौका दिया है। कमेटी का कहना है कि तय समय तक अगर विधानसभा में सीट आरक्षित नहीं की गई तो राज्यव्यापी आंदोलन की शुरुआत की जाएगी। इस आंदोलन का आगाज पश्चिम सिक्किम से किया जाएगा।