प्रत्याशी नहीं उतार कर माकपा अपनी अक्षमता को छिपा रही है: राम माधव

Daily news network Posted: 2018-03-13 09:46:46 IST Updated: 2018-03-13 10:21:41 IST
प्रत्याशी नहीं उतार कर माकपा अपनी अक्षमता को छिपा रही है: राम माधव
  • भाजपा महासचिव राम माधव ने चारीलाम विधानसभा सीट पर माकपा के चुनाव नहीं लडऩे पर निशाना साधा है।

अगरतला।

भाजपा महासचिव राम माधव ने चारीलाम विधानसभा सीट पर माकपा के चुनाव नहीं लडऩे पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि माकपा अपनी पराजय और लोगों तक पहुंचने में अपनी अक्षमता को छिपाने की कोशिश कर रही है। उत्तरपूर्व राज्यों में पार्टी के लिए अहम भूमिका निभाने वाले और त्रिपुरा एवं नगालैंड में पार्टी के शिल्पी समझे जाने वाले ने विधानसभा चुनाव में भाजपा की जोरदार जीत के बाद राज्य में हिंसा के वामदलों के दावे को भी खारिज कर दिया और कहा कि यह कुछ नहीं बल्कि एक पीडि़त व्यक्ति बनने का प्रयास है।

 


 उन्होंने कहा कि जब से भाजपा की सरकार ने कमान संभाली है राज्य में पूरी तरह शांति है। माधव ने बताया कि माकपा ने अपना प्रत्याशी वापस ले लिया और उसने दावा किया कि यह हिंसा के कारण है जो पूरी तरह गलत है। त्रिपुरा में अब लोगों तक नहीं पहुंच पाने के कारण अपनी अक्षमता छुपाने की बहानेबाजी का प्रयास है। उनके प्रत्याशी ने पहले ही चुनाव नहीं लडऩे का निर्णय लिया था। अब वे पीडि़त दिखाने के लिए यह सब कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह उनकी हार को छिपाने का एक प्रयास है।

 

 

बता दें कि अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित चारीलाम सीट पर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट

पार्टी (माकपा)के प्रत्याशी रमेंद्र नारायण देबबर्मा के निधन के बाद मतदान

स्थगित कर दिया गया था। 11 फरवरी को दिल का दौरा पड़ने से देबबर्मा का निधन

हो गया था।

 


 गौरतलब है कि हाल के दिनों में त्रिपुरा में लेलिन की मूर्ति को लेकर जमकर विवाद हुआ था। इस पर राम माधव ने कहा था कि त्रपुरा में कोई मूर्ति तोड़ी नहीं गई है। यह दुष्प्रचार हो रहा है। उन्होंने कहा कि एक निजी जमीन में, जिन्होंने मूर्ति लगाई उन्होंने हटाई है। त्रिपुरा में कोई गुंडागिरी नहीं हो रही है। इसके साथ ही राम माधव ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि गुंडागिरी तो पश्चिम बंगाल में हो रही है। ममता जी अपने राज्य की चिंता करें, देश की चिंता बाद में करें।