पीएम मोदी से मिले आईपीएफटी के नेता,कांग्रेस और सीपीएम में हड़कंप

Daily news network Posted: 2018-01-06 18:29:11 IST Updated: 2018-01-06 18:29:11 IST
पीएम मोदी से मिले आईपीएफटी के नेता,कांग्रेस और सीपीएम में हड़कंप
  • त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव से पहले अलग राज्य की मांग फिर से जोर पकड़ती जा रही है। इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा(आईपीएफटी) के एन.सी.देबबर्मा गुट ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री राजनाथ सिंह से नई दिल्ली में मुलाकात की।

गुवाहाटी।

त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव से पहले अलग राज्य की मांग फिर से जोर पकड़ती जा रही है। इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा(आईपीएफटी) के एन.सी.देबबर्मा गुट ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री राजनाथ सिंह से नई दिल्ली में मुलाकात की। यह टीम पिछले तीन दिनों से दिल्ली में डेरा डाले हुए है।

 

 

 आईपीएफटी काफी समय से अलग त्विप्रालैंड के लिए संघर्ष कर रही है। आईपीएफटी त्रिपुरा में रह रहे इंडिजिनस समुदायों के लिए अलग राज्य की मांग कर रही है। आईपीएफटी के महासचिव मेवार कुमार जमातिया ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ त्विप्रालैंड पर चर्चा की। प्रधानमंत्री प्राथमिकता के आधार पर मांग को देखने के लिए मॉडेलिटी कमेटी के गठन पर सहमत हैं।

 

 

 देबबर्मा ने कहा कि कमेटी के गठन पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ भी चर्चा हुई। प्रधानमंत्री मोदी और राजनाथ सिंह से हुई बातचीत की मध्यस्थता भाजपा महासचिव राम माधव व नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के चेयरमैन हिमंता बिस्वा सरमा और अन्य नेताओं ने की। प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री जितेन्द्र सिंह भी वार्ता में शामिल थे।

 

 

 मामले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हु प्रद्योत किशोर माणिक्य देबबर्मा ने कहा कि 1949 में त्रिपुरा के विलय के लिए हुए समझौते के किसी भी क्षेत्रीय उल्लंघन से संवैधानिक संकट उत्पन्न हो जाएगा। उन्होंने त्विप्रालैंड पर केन्द्र के स्पष्ट बयान की मांग की। सीपीएम के प्रवक्ता गौतम दास ने कहा, हम डिटेल्स एकत्रित कर रहे हैं। हम जानना चाहते हैं कि आखिर हुआ क्या है। आपको बता दें कि त्रिपुरा में अगले माह फरवरी में विधानसभा चुनाव हैं।