खुद की जान जोखिम में डाल कर जवानों ने तूफान में फंसे 150 लोगों को निकाला

Daily news network Posted: 2019-01-10 11:41:34 IST Updated: 2019-01-11 08:32:47 IST
  • सर्दी का कहर उत्तरी राज्यों के साथ साथ हिमालय की तलहटी में बसे सिक्किम पर भी जारी है। राज्य के उत्तरी इलाकों में भीषण बर्फबारी जारी है।

सर्दी का कहर उत्तरी राज्यों के साथ साथ हिमालय की तलहटी में बसे सिक्किम पर भी जारी है। राज्य के उत्तरी इलाकों में भीषण बर्फबारी जारी है। इससे जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। राज्य के कई हिस्सों में तापमान शून्य से नीचे चल रहा है। इस बीच बुधवार को यहां अचानक 2 घंटे तक भीषण बर्फबारी हुई, जिसके चलते सैकड़ों पर्यटक भी पहाड़ी स्थानों पर अटक गए। इसके बाद भारतीय सेना ने ऑपरेशन चलाते हुए यहां फंसे 150 से अधिक पर्यटकों को सुरक्षित बाहर निकाला।

 


 उत्तरी सिक्किम के लाचुंग वैली में 2 घंटे तक अप्रत्याशित रूप से बर्फबारी हुई। लाचुंग वैली एक प्रमुख पर्यटन केन्द्र है, जहां भारी तादाद में लोग आते हैं। बर्फीले तूफान से पर्यटक दुर्गम स्थानों पर फंस गए। पूर्वी कमान मुख्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक बुधवार को त्रिशक्ति कॉर्प्स के जवानों ने सैलानियों के वाहनों के शून्य से भी कम तापमान में फंसे होने की जानकारी मिलने के बाद तुरंत कार्रवाई शुरु कर दिया। सेना ने पर्यटकों के वाहन को सुरक्षित बाहर निकाला और उन्हें आवश्यक मेडिकल सुविधाएं प्रदान की। इसमें से एक महिला पर्यटक का हाथ टूट गया। वहां कई यात्रियों को सांस लेने में परेशानी और ऊंचाई से जुड़ी मुश्किलें पेश आई। इस क्षेत्र में तापमान शून्य से 10 डिग्री नीचे चला गया है। इसे देखते हुए सेना इन यात्रियों को खाना पीना और मेडिकल सुविधाएं प्रदान कर रही है।

 

 

 रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बाहर निकाले गए टूरिस्ट्स को रहने के लिए शिविर और खाने के लिए भोजन भी आर्मी ने उपलब्ध कराया। सेना के जवानों की ऐसी तत्परता देखकर हर सैलानी भावुक था। उनके लिए सेना के जवानों को धन्यवाद कहने के लिए शब्द नहीं मिल रहे थे लेकिन उनके चेहरे की मुस्कुराहट बिना शब्दों के ही सब कुछ कह देने के लिए पर्याप्त थी। आर्मी सूत्रों के मुताबिक टूरिस्ट एरिया में रेस्क्यू ऑपरेशन देर रात तक चलता रहेगा। गुरुवार को बचाए गए सैलानियों को गंगटोक से लाया जाएगा, जिसके बाद वे अपने घरों को जा सकेंगे। 


 

बता दें कि इससे पहले 28 दिसंबर को भी सेना ने नाथुला क्षेत्र में फंसे 3 हजार से अधिक पर्यटकों को बाहर निकाला था। सिक्किम में ये अब तक का सबसे बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन था। इस क्षेत्र का तापमान शून्य से 10 डिग्री नीचे है और पर्यटकों को ठंड से बचाने के लिए भारतीय सेना ने उन्हें अपने स्लीपिंग बैग और बिस्तर भी दिए हैं। वहीं आर्मी के जवान खुद टेंट के बाहर रात काट रहे हैं।