अपनी ही Party के बयान पर शिवराज ने साधी चुप्पी, कुछ बोलने से किया इंकार

Daily news network Posted: 2019-08-03 14:19:49 IST Updated: 2019-08-20 13:54:53 IST
अपनी ही Party के बयान पर शिवराज ने साधी चुप्पी, कुछ बोलने से किया इंकार
  • यह देश कोई धर्मशाला नहीं है, जहां जो चाहे वो आकर रहने लगे। उन्होंने नागरिकता संशोधन को पार्टी का ध्येय बताया है।

गुवाहाटी

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बाद पार्टी उपाध्यक्ष तथा मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एनआरसी का कार्य पूरे देश में किए जाने की जरूरत बताते हुए कहा है कि यह देश कोई धर्मशाला नहीं है, जहां जो चाहे वो आकर रहने लगे। उन्होंने नागरिकता संशोधन को पार्टी का ध्येय बताया है।

 


 

कांग्रेस के आरोपों पर साधी चुप्पी

प्रदेश में पार्टी के संगठन पर्व सदस्यता अभियान की समीक्षा और कार्यों को गति देने के लिए राज्य के दो दिवसीय दौरे पर आए भाजपा उपाध्यक्ष ने कहा कि एनआरसी का कार्य देशहित में हैं और यह पूरे देश में होना चाहिए। पूरे देश के लिए एक नागरिकता रजिस्टर होनी चाहिए। राज्य सरकार पर एनआरसी का डाटा लीक कर सुप्रीम कोर्ट की अवमानना के कांग्रेस के आरोपों पर कुछ न बोलते हुए शिवराज ने कहा कि विधानसभा में राज्य सरकार समझ-बूझ कर ही कुछ बोली होगी। मामला सुप्रीम कोर्ट में है, इसलिए वे ज्यादा कुछ नहीं बोल सकते, लेकिन इतना कहेंगे कि यह देश के लिए जरूरी है।

 

 

 

भारत है अंतिम शरणस्थली

नागरिकता संशोधन विधेयक से जुड़े मीडिया के सवालों पर भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा कि विभिन्न जातियों के शरणार्थी भारत में रहते हैं, उन्हें अगर बाहर किया गया तो वे कहीं नहीं जा पाएंगे। वे बने रहें, इसके लिए हर आवश्यक कदम केंद्र सरकार उठाएगी। उन्होंने कहा कि पड़ोसी देशों से आए वहां के अल्पसंख्यक हिंदू, बौद्ध, ईसाई और जैन के लिए भारत अंतिम शरणस्थली है। उन्हें यहां से बाहर किया जाएगा तो बांग्लादेश या दूसरे देशों में उनका क्या होगा। उनके लिए भारत शरणास्थली है। वे यहां बने रहें। उन्हें डरने की कोई जरूरत नहीं है। भारत सरकार उनके लिए हर संभव कदम उठाएगी।