असम के राज्यपाल रहे बनवारीलाल पुरोहित की तस्वीर वायरल, महिला पत्रकार के साथ की ये हरकत

Daily news network Posted: 2018-04-18 11:10:00 IST Updated: 2018-04-18 11:10:00 IST
असम के राज्यपाल रहे बनवारीलाल पुरोहित की तस्वीर वायरल, महिला पत्रकार के साथ की ये हरकत
  • तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है। तस्वीर में बनवारीलाल पुरोहित एक महिला पत्रकार के गाल को हाथ लगाते हुए नजर आ रहे हैं।

नई दिल्ली।

तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है। तस्वीर में बनवारीलाल पुरोहित एक महिला पत्रकार के गाल को हाथ लगाते हुए नजर आ रहे हैं। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक घटना उस वक्त की है जब 78 साल के बनवारीलाल पुरोहित राजभवन के भीड़ भाड़ वाले प्रेस कांफ्रेंस हॉल से जा रहे थे। महिला पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमण्यम द वीक में काम करती है। घटना के बाद उन्होंने ट्वीट किया, मैंने तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित से प्रेस कांफ्रेंस के आखिर में एक सवाल पूछा, उन्होंने बिना मेरी इजाजत के मेरा गाल थपथपाया। 




मैंने कई बार अपना चेहरा धोया लेकिन ये निशान नहीं छूट रहा। इतने उत्तेजित और नाराज हो गए थे आप राज्यपाल पुरोहित। ये आपके हिसाब से दादा जी जैसा काम हो सकता है लेकिन मेरे लिए आप गलत हैं। महिला पत्रकार के इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर राज्यपाल पुरोहित की जमकर आलोचना होने लगी। राज्य के प्रमुख विपक्षी दल द्रमुक ने इसे एक संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति के लिए अनुपयुक्त कार्य बताया है। 


 


राज्यसभा सांसद कनिमोई ने ट्वीट किया, अगर संदेह नहीं भी किया जाए, तब भी सार्वजनिक पद पर बैठे एक व्यक्ति को इसकी मर्यादा समझनी चाहिए। एक महिला पत्रकार के निजी अंग को छूकर उन्होंने गरिमा का परिचय नहीं दिया या किसी भी इंसान द्वारा दिखाया जाने वाला सम्मान नहीं दर्शाया। द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष एम.के.स्टालिन ने ट्वीट किया, यह न केवल दुर्भाग्यपूर्ण है बल्कि एक संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति की गलत हरकत है। राज्यपाल ने अरुप्पूकोट्टई के देवांगा आट्र्स कॉलेज की असिस्टेंट प्रोफेसर निर्मला देवी के मामले पर प्रेस कांफ्रेंस बुलाई थी। निर्मला देवी पर आरोप आरोप है कि उसने चार छात्राओं को ज्यादा नंबरों व पैसों के लिए मदुरै कामराज यूनिवर्सिटी के शीर्ष अधिकारियों के साथ एडजस्ट करने की सलाह दी थी।



पुलिस ने निर्मला देवी के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। निर्मला देवी ने दावा किया था कि वह राज्यपाल की करीबी है। राज्यपाल पुरोहित इस यूनिवर्सिटी के चांसलर भी हैं। हालांकि राज्यपाल ने निर्मला देवी से किसी भी तरह की जान पहचान की बात खारिज कर दी। राज्यपाल ने कहा कि मैंने तो आरोपी प्रोफेसर का चेहरा भी नहीं देखा है। 




आपको बता दें कि तमिलनाडु के पुलिस महानिदेशक टीके राजेन्द्रन ने निर्मला देवी के मामले की जांच सीबीसीआईडी को सौंप दी है। राज्यपाल पुरोहित ने उन आरोपों को बकवास व आधारहीन बताया, जिसमें उनके खिलाफ केन्द्रीय गृह मंत्रालय की ओर से यौन दुराचार के आरोप में जांच कराए जाने का दावा किया गया था। फरवरी में एक समाचार पत्र में प्रकाशित रिपोर्ट में दावा किया गया था कि एक दक्षिणी राज्य के राज्यपाल पर यौन कदाचार का आरोप है और आरोपों की सत्यता की गृह मंत्रालय जांच कर रहा है।