दुनिया के पांच सबसे छोटे देश, आबादी जानकर रह जाएंगे दंग, जरूर बनाए घूमने का प्लान

Daily news network Posted: 2019-06-29 15:01:12 IST Updated: 2019-06-29 19:10:37 IST
  • लगभग प्रत्येक दिन हम अमेरिका, चीन, रूस जैसे बड़े देशों की खबरें सुनते रहते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि धरती पर कई ऐसे देश भी हैं जो आपके शहरों से भी छोटे हैं। इतना ही नहीं एक देश तो ऐसा है जहां की आबादी एक हजार भी नहीं है। लेकिन, इस देश में बड़ी संख्या में लोग घूमने आते हैं।

लगभग प्रत्येक दिन हम अमेरिका, चीन, रूस जैसे बड़े देशों की खबरें सुनते रहते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि धरती पर कई ऐसे देश भी हैं जो आपके शहरों से भी छोटे हैं। इतना ही नहीं एक देश तो ऐसा है जहां की आबादी एक हजार भी नहीं है। लेकिन, इस देश में बड़ी संख्या में लोग घूमने आते हैं।


 सैन मैरिनो

 सैन मैरिनो यूरोप का सबसे पुराना देश है। इसे विश्व का पांचवां सबसे छोटा देश माना जाता है। यहा की भाषा इटालियन है। 61 वर्ग किलोमीटर में फैले इस देश की जनसंख्या तकरीबन 33 हजार के आस पास है।


 तुवालु

 ऑस्ट्रेलिया और हवाई के बीच द्वीप पर बसा यह देश कभी ब्रिटेन का उपनिवेश था। हालांकि जलवायु परिवर्तन के चलते दुनिया का चौथा सबसे छोटा देश समुद्र में डूब रहा है। इस देश का क्षेत्रफल 26 वर्ग किलोमीटर है। इस देश की राजधानी फुनाफुटी है।


 नौरू

 प्रशांत महासागर में स्थित इस देश का क्षेत्रफल 21.3 वर्ग किलोमीटर के करीब है। इस देश की कुल आबादी करीब 13 हजार है। नौरू दुनिया का सबसे छोटा द्वीप राष्ट्र होने के साथ तीसरा सबसे छोटा देश है। यह दुनिया में एकमात्र ऐसा गणतांत्रिक राष्ट्र है जिसकी कोई राजधानी नहीं है।


 मोनैको

 फ्रांस और इटली के बीच समुद्र किनारे बसे इस देश को दुनिया का दूसरा सबसे छोटा देश होने का तमगा प्राप्त है। इस देश का सबसे बड़ा कस्बा मॉन्टे कार्लो है। इस देश का क्षेत्रफल 1.95 वर्ग किमी है।


 वैटिकन सिटी

 यूरोप महाद्वीप में स्थित यह दुनिया का सबसे छोटा देश है। इस देश का कुल क्षेत्रफल मात्र 44 हेक्टेयर है। जबकि आबादी लगभग 800 है। इसके अपने सिक्के, अपना डाक विभाग और अपना रेडियो स्टेशन भी है। इसे इसाई धर्म का प्रमुख केंद्र माना जाता है।