उम्मीदवार का समर्थन नहीं करने पर नागालैंड में तीन महिलाओं को पीटा

Daily news network Posted: 2018-02-24 13:32:13 IST Updated: 2018-02-24 13:32:13 IST
उम्मीदवार का समर्थन नहीं करने पर नागालैंड में तीन महिलाओं को पीटा
  • नागालैंड में एक उम्मीदवार का समर्थन नहीं करने पर तीन महिलाओं से पिटाई का मामला सामने आया है।

कोहिमा।

नागालैंड में एक उम्मीदवार का समर्थन नहीं करने पर तीन महिलाओं से पिटाई का मामला सामने आया है। पीडि़ताएं तुली विधानसभा क्षेत्र(ए/सी) के तहत आने वाले मेरांगकोंग गांव की रहने वाली है। मेरांगकोंग गांव मोकोकचुंग जिले में पड़ता है। तीनों महिलाओं से शनिवार रात मारपीट की गई।

 

 

 


मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मेरांगकोंग गांव के 6 से 7 लड़कों ने महिलाओं को पीटा। इसके बाद उनकी आंखों पर पट्टी बांध दी गई। महिलाओं की पिटाई इसलिए की गई क्योंकि वे उस उम्मीदवार का समर्थन कर रही थी जिसका गांव वाले समर्थन नहीं करते। पुलिस तीनों महिलाओं को रविवार को तुली सिविल अस्पताल लाई  और एक को भर्ती कराया। महिलाओं पर आरोप है कि वे उस उम्मीदवार के कहने पर कथित रूप से पैसे बांट रही थी जो ग्रामीणों की पसंद नहीं है।

 

 

 


आपको बता दें कि मेरांगकोंग गांव की सिटीजन यूनियन ने पहले एक ही उम्मीदवार का समर्थन करने का फैसला किया था। हालांकि महिलाओं ने खुद पर लगे आरोपों को सिरे से खारिज किया है। महिलाओं का कहना है कि उनके हाथ में जो पैसे थे वे उनकी खुद की कमाई है और उनका इस्तेमाल खुद के लिए करना था। मामले की जांच जारी है। मारपीट करने वाले सभी युवक फरार हैं।

 

 


 

उधर, त्रिपुरा में आदिवासी महिला की गुरुवार रात हत्या कर दी। पुलिस ने यहां

बताया कि महिला की पहचान उत्तरी त्रिपुरा के नालकट निवासी जितानी चकमा के

तौर पर हुई है। जितानी की

पड़ोसी तरणी चकमा ने बताया कि जब वह घर में अकेली थी तो उसके ससुर तथा देवर

ने उस पर हमला कर दिया। इस घटना के समय उसका पति बाजार गया था। बताया जा रहा है कि बार-बार कहने के बाद भी महिला और उसके पति ने भारतीय

जनता पार्टी (भाजपा) को वोट दिया था। इस वजह से दोनों आरोपियों ने ईंट और

डंडों से हमला करके उसे मौत के घाट उतार दिया। हिला

की आवाज सुनकर जब पड़ोसी वहां पहुंचे तो दोनों वहां से फरार हो गए।

उन्होंने बताया कि ग्रामीण उसे स्थानीय अस्पताल में लेकर गए जहां से

डॉक्टरों ने तुरंत उसे कैलाशहर जिला अस्पताल रैफर कर दिया और अस्पताल में

लाए जाने पर चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।