370 पर विपक्ष के साथ-साथ कांग्रेस में भी दरार, ये रहा सबूत

Daily news network Posted: 2019-08-06 12:38:58 IST Updated: 2019-08-06 16:37:15 IST
  • राज्यसभा में सोमवार को मोदी सरकार के सामने विपक्ष कमजोर और असहाय पड़ गया। अनुच्छेद 370 को लेकर प्रस्ताव पेश करते समय विपक्षी सांसदों ने भले ही जोरदार ढंग से विरोध और धरना प्रदर्शन किया। लेकिन विपक्ष में दरार पड़ गई।

नई दिल्ली/गुवाहाटी।

राज्यसभा में सोमवार को मोदी सरकार के सामने विपक्ष कमजोर और असहाय पड़ गया। अनुच्छेद 370 को लेकर प्रस्ताव पेश करते समय विपक्षी सांसदों ने भले ही जोरदार ढंग से विरोध और धरना प्रदर्शन किया। लेकिन विपक्ष में दरार पड़ गई।


 बसपा, एनसीपी और टीडीपी ने दिया सरकार का साथ

 बसपा, एनसीपी और टीडीपी ने सरकार का साथ दिया, जबकि गैर एनडीए गैर यूपीए दल बीजेडी, टीआरएस और वाईएसआर कांग्रेस ने भी मोदी सरकार का साथ दिया। एनडीए के सहयोगी दल जदयू ने इसके विरोध में वाकआउट किया लेकिन इसके खिलाफ वोट कर सरकार को नुकसान पहुंचाने की हिम्मत नहीं कर पाए। सदन के बीचों बीच जब कांग्रेस के सांसदों ने धरना दिया तो टीएमसी, द्रमुक, राजद और सपा जैसे दलों ने साथ दिया।



कांग्रेस का मुख्य सचेतक ही गया, सांसद हक्के-बक्के

 राज्यसभा की सुबह कार्यवाही शुरू होते ही सभापति वेंकैया नायडु ने कांग्रेस सांसद भुवनेश कालिता और सपा सांसद संजय सेठ के इस्तीफे का एलान किया। राज्यसभा में विपक्ष के नेता व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और सदन में उनके पीछे की कतार में बैठीं अंबिका सोनी हैरान नजर आई। वहीं कांग्रेस सांसद कुमारी शैलजा और जयराम रमेश हंसते नजर आए।


 कालिता ने बयान जारी कर कहा है कि वे जल्द ही अपने इस्तीफे के कारण में बताएंगे। वहीं सपा सांसद संजय सेठ से पहले पार्टी के दो सांसद पहले ही साथ छोड़ चुके हैं। गौरतलब है कि विपक्ष के सांसदों के इस्तीफा होने के चलते राज्यसभा का कुल संख्याबल कम हुआ है, जिससे मोदी सरकार को बहुमत हासिल करना आसान हो गया है।