राजनाथ सिंह से मिले असम मुख्यमंत्री, भारत-बांग्लादेश बॉर्डर फेंसिंग को लेकर की बात

Daily news network Posted: 2018-04-13 13:00:11 IST Updated: 2018-04-13 18:18:44 IST
  • असम मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने गुरूवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की

गुवाहाटी।

असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने गुरूवार को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। नाॅर्थ ब्लाॅक स्थित मंत्रालय के आॅफिस में मुख्यमंत्री सोनोवाल ने राजनाथ सिंह से मीटिंग की। मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री ने असम सेक्टर में जल्द से जल्द भारत-बांग्लादेश की अंतरराष्ट्रीय सीमा की बाड़ लगवाने की मांग की।

 

 

 

 

तकरीबन 20 मिनट तक चली इस बैठक के दौरान मुख्यमंत्री सोनोवाल ने गृहमंत्री के सामने असम-मिजोरम के साथ अन्य राज्यों की अंतरराज्यीय सीमा पर मौजूद स्थिति के बारे में जानकारी दी। इसके साथ ही अंतरराज्यीय सीमा पर सड़कों के निर्माण के लिए मंत्री से मदद भी मांगी। इस पर गृहमंत्री ने सीमा पर स्थिति नियंत्रण से बाहर होने के बाद भी असम सरकार के संयम की सराहना की।

 


 

इसके साथ ही मुख्यमंत्री सोनोवाल ने हिंदू-बांग्लादेशियों के नागरिकता को लेकर राज्य में हाे रहे विरोध से भी गृहमंत्री को अवगत कराया। सूत्रों के मुताबिक हिंदू-बांग्लादेशियों को नागरिकता देने के लिए आरएसएस का जिस तरह दबाव बढ़ता जा रहा है, उससे राज्य में भाजपा के अंदर भी असंतोष उभर रहा है।

 


 


सोनोवाल ने नागरिकता संशोधन बिल को देरी से क्रियान्वित करने के साथ ही संयुक्त संसदीय कमेटी पर भी इस मामले में सहूलियत बरतने पर जोर दिया। वहीं दूसरी आेर सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में चल रहे एनआरसी अपडेशन के सिलसिले में भी मुख्यमंत्री से गृहमंत्री से बातचीत की। एनआरसी के बाद हिंदू बांग्लादेशियों का क्या होगा, इसे लेकर भी मुख्यमंत्री से गृहमंत्री के सामने सवाल उठाया। इस दौरान दोनों नेताओं के बीच असम-बांग्लादेश सीमा पर स्मार्ट फेंसिंग पर भी चर्चा हुई।


 


 

इसके बाद सोनोवाल ने विभागीय सचिव युधवीर सिंह मलिक के साथ बैठक कर बरसात से पहले नेशनल हार्इवे और सड़कों की मरम्मत कराने का आग्रह किया है। इसके साथ ही सोनाेवाल से विभागीय अधिकारियों के समक्ष नाराजगी जतार्इ है कि धन की कमी के कारण राज्य में सड़कों की मरम्मत का काम नहीं हो पा रहा है। बता दें कि केंद्र आैर राज्य में धन की कमी होने के कारण विकास का काम लगभग बंद सा पड़ा हुआ है। इसके बावजूद मुख्यमंत्री सोनोवाल केंद्र पर दोष नहीं देना चाहते हैं ।